वेस्ट इंडीज़, श्रीलंका का टेस्ट क्रिकेट: अर्श से फर्श पर

टीम वेस्ट इंडीज़ इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption टीम वेस्ट इंडीज़

इन दिनों वेस्ट इंडीज़ की क्रिकेट टीम इंग्लैंड से दूसरा टेस्ट मैच खेल रही है.

इससे पहले वह पहला टेस्ट मैच केवल तीन दिन के भीतर एक पारी और 209 से हार गई थी. दूसरी तरफ श्रीलंकाई टीम भी भारत से एकदिवसीय सिरीज़ खेल रही है.

वह पांच मैचों की सिरीज़ के पहले दो मैच हार चुकी है. इससे पहले वह भारत से टेस्ट सिरीज़ 3-0 से हारी.

भारत ने पहली बार किसी विदेशी टीम को उसी की ज़मीन पर टेस्ट सिरीज़ में एकतरफ़ा रूप से हर टेस्ट मैच में हराया.

थरंगा पर प्रतिबंध, कपुगेदरा करेंगे कप्तानी

श्रीलंका जीतती तो आज हीरो होते धनंजय

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भारतीय क्रिकेट टीम

टेस्ट क्रिकेट का गिरता स्तर

आख़िरकार ऐसा क्या हुआ है कि एक समय अपने घर और बाहर बेहद मज़बूत मानी जाने वालीं ये दोनों टीमें अब लगातार पस्त हो रही हैं.

श्रीलंका ने तो फिर भी पिछले दो साल में देश-विदेश में खेले गए 21 में से 8 मैच जीते हैं और 13 हारे हैं.

दूसरी तरफ़ वेस्ट इंडीज़ की टीम ने पिछली और आख़िरी टेस्ट सिरीज़ अपनी ही ज़मीन पर साल 2014 में बांग्लादेश से 2-0 से जीती थी.

वह देश-विदेश में खेले गए पिछले 25 टेस्ट मैचों में केवल 5 में जीत हासिल कर सकी है. 16 में हारी है और चार टेस्ट मैच ड्रॉ करा सकी है.

आख़िरकार वेस्ट इंडीज़ और श्रीलंका के टेस्ट क्रिकेट में गिरते स्तर का क्या कारण है?

धोनी-भुवनेश्वर के धमाल से जीत गया भारत

युवराज-रैना को बाहर करने वाला 'यो-यो'?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption क्लाइव लॉयड

वेस्ट इंडीज़ की टीम

इसे लेकर क्रिकेट समीक्षक विजय लोकपल्ली का मानना है कि यह बात सही है कि इससे ख़राब वेस्ट इंडीज़ की टेस्ट टीम किसी ने नहीं देखी.

उन्होंने कहा, 'हारना अलग बात है लेकिन अगर एक दिन में 19 विकेट गंवाकर कोई टीम हार जाए तो क्या कहा जाए? यह टीम न तो घर में जीत रही है, न बाहर जीत रही है.'

उन्होंने कहा कि अगर आज वेस्ट इंडीज़ को टेस्ट क्रिकेट का दर्जा हासिल करना होता तो शायद उन्हें इंतज़ार करना होता.

यह उस टीम का हाल है जिसे लेकर सबका कहना है कि विश्व में टेस्ट क्रिकेट को जीवंत रखना है तो वेस्ट इंडीज़ का सक्षम होना ज़रूरी है.

ये टीम बन सकती है ऑल टाइम बेस्ट

क्रिकेटर जो भारत और पाक दोनों ओर से खेला

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ब्रायन लारा

मजबूत टेस्ट टीम

विजय लोकपल्ली मानते हैं कि इसके लिए वेस्ट इंडीज़ का क्रिकेट बोर्ड भी ज़िम्मेदार है, जिससे हमेशा खिलाड़ियों के विवाद होते रहते है.

उन्होंने कहा, 'कभी क्लाइव लॉयड की टीम विश्व की सर्वश्रेष्ठ टेस्ट टीम थी. हाल के वर्षो में ब्रायन लारा के बाद कोई ऐसा खिलाड़ी या कप्तान वेस्ट इंडीज़ के पास नहीं हैं जो उन्हें जोड़कर रख सके.'

विजय लोकपल्ली ने कहा कि यहां तक कि अब वेस्ट इंडीज़ के खिलाड़ियों के पास टेस्ट क्रिकेट खेलने का धैर्य भी नही हैं. सभी एकदिवसीय और टी-20 लीग खेलकर खुश है.

उन्होंने कहा कि कुछ यही हाल श्रीलंका का है.

लोकपल्ली कहते हैं, 'कभी अर्जुन राणातुंगा, अरविंद डि सिल्वा, मुथय्या मुरलीधरन और चमींडा वास के दम पर उनकी बेहद मज़बूत टेस्ट टीम थी.'

खेल पुरस्कारों को लेकर क्यों होता है विवाद?

जडेजा को मिली सज़ा, अंतिम टेस्ट से निलंबित

Image caption मुथ्य्या मुरलीधरन और कुमार संगकारा

उन्होंने कहा कि उसके बाद कुमार संगकारा और महेला जयवर्धने तो ऐसे खिलाड़ी थे जो दुनिया की किसी भी टीम में जगह बना सकते थे. उनके संन्यास लेने के बाद उन जैसे खिलाड़ियो की कमी पूरी नही हो पा रही है.

विजय लोकपल्ली का मानना है कि श्रीलंका के लिए कहा जा सकता है कि टेस्ट क्रिकेट में उनकी नाकामी की अभी शुरुआत है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption महेला जयवर्धने

क्रिकेट विरासत

वहीं एक और क्रिकेट समीक्षक अयाज़ मेमन वेस्ट इंडीज़ और श्रीलंका के टेस्ट क्रिकेट में पतन को लेकर मानते है कि वेस्ट इंडीज़ की टीम तो बहुत ऊंचाई से बहुत नीचे तक आ गई है.

उन्होंने कहा, 'वेस्ट इंडीज़ टीम न सिर्फ़ पिछले 25 टेस्ट मैचों से, बल्कि पिछले 10-12 सालों से ख़राब खेल रही है. उसकी जीत भी मज़बूत टीमों के ख़िलाफ नहीं आई है.'

अयाज़ ने कहा कि इसकी वजह यह है कि वेस्ट इंडीज़ की क्रिकेट विरासत बेहद शानदार रही है.

उनके मुताबिक जिस अंदाज़ में वेस्ट इंडीज़ खेलती थी, वह दिखाई नहीं देता. उन्होंने कहा कि गारफ़ील्ड सोबर्स, रोहन कन्हाई, ग्रिफिथ, हॉल, क्लाइव लॉयड, विवियन रिचर्डस, मार्शल, होल्डिंग और ना जितने नाम हैं, उनके स्तर के खिलाड़ी अब दिखाई नही देते.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption विवियन रिचर्डस

अयाज़ मेमन मानते हैं कि इसकी वजह पैसा है, जिसकी कमी से उनके देश में क्रिकेट का विकास नहीं हुआ है.

उन्होंने कहा कि वेस्ट इंडीज़ बोर्ड ने भी कुछ ऐसे निर्णय लिए जिससे क्रिकेट को झटका लगा. सबसे बड़ी बात कि खिलाड़ियों और बोर्ड के बीच अनबन ने बड़ा नुकसान किया.

बहुत से ऐसे खिलाड़ी जिन्हे टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहिए था लेकिन नही खेल पा रहे है जैसे क्रिस गेल, ड्वेन ब्रावो, सुनील नारायण और दूसरे खिलाड़ी.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption क्रिस गेल

प्रतिभाशाली खिलाड़ियों का अभाव

मेमन ने कहा, 'अब अगर ऐसे खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट नही खेलेंगे तो उनके चाहने वालों की दिलचस्पी भी खेल में कम हो जाती है. वैसे भी वेस्ट इंडीज़ की हालत तब तक ठीक थी, जब तक उनके खिलाड़ी इंग्लिश काउंटी क्रिकेट खेलते थे. अब उनके खिलाड़ी वहां न के बराबर खेलते है और उनकी नज़र अमरीका की तरफ़ है. बास्केटबॉल और एथलेटिक्स में उनका रुझान अधिक है.'

श्रीलंका पर बात करते हुए मेनन बताते हैं कि दूसरी तरफ श्रीलंका के पास प्रतिभाशाली खिलाड़ियों का अभाव इतना नहीं लग रहा है, जितना वेस्ट इंडीज़ को है.

उन्होंने कहा, 'अंडर-19 के बाद वेस्ट इंडीज़ के खिलाड़ियों को संभाला नहीं जाता. नही भूलना चाहिए कि श्रीलंका ने एक साल पहले ही ऑस्ट्रेलिया को टेस्ट सिरीज़ में 3-0 से हराया था.'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ जीतने वाली श्रीलंकाई टीम

मेमन कहते हैं कि श्रीलंका की टीम अभी फिर से एकजुट हो रही है. अभी वह कुछ दिग्गज खिलाड़ियों के सन्यास लेने से मुश्किल में है. संगकारा, तिल्करत्ने दिलशान, महेला जयवर्धने का विकल्प मिलने में समय लगता है.

उन्होंने कहा, 'श्रीलंका बोर्ड के अधिकारी भी आपस में लड़ रहे है. ऐसे में बोर्ड भी ख़ुद संभल जाए क्योंकि अगर दो टीम टेस्ट क्रिकेट में इतने निचले स्तर पर आ जाए तो आगे जाते टेस्ट क्रिकेट को झटका लगेगा. दर्शकों का विश्वास उठ जाएगा, स्पॉन्सर नहीं आएंगे. तो बहुत नाज़ुक मोड़ पर है वेस्ट इंडीज़ और श्रीलंकाई क्रिकेट.'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे