श्रीलंकाई दर्शकों ने 1996 का सेमीफ़ाइनल याद दिला दिया

भारत श्रीलंका इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत और श्रीलंका के बीच रविवार को पल्लेकल में खेले गए मुकाबले को श्रीलंकाई दर्शकों के गुस्से का सामना करना पड़ा.

भारतीय पारी के 44वें ओवर में जब भारतीय टीम जीत से महज 8 रन दूर थी, तभी श्रीलंकाई दर्शकों ने गुस्से में मैदान पर बोतलें व कागजों में आग लगाकर फेंकना शुरु कर दिया. इस वजह से मैच 35 मिनट तक रुका रहा.

बुमराह-रोहित के प्रदर्शन से तीसरा वनडे भी जीता भारत

इस घटना ने 21 साल पहले भारत और श्रीलंका के बीच हुए मैच की यादें ताज़ा कर दीं. क्या हुआ था उस मुकाबले में डालते हैं एक नज़र...

इमेज कॉपीरइट Getty Images

तारीख: 13 मार्च 1996, जगह: कोलकाता का ईडन गार्डन मैदान, मैच: विश्व कप सेमीफाइनल

करो या मरो के इस मुकाबले में भारतीय कप्तान मोहम्मद अज़हरुद्दीन ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया था.

श्रीलंका ने अरविंद डिसिल्वा (66) और रोशन महानामा (58) के अर्धशतकों की मदद से 251/8 रनों का स्कोर खड़ा किया.

भारत के मजबूत बैटिंग ऑडर को देखते हुए मैदान में मौजूद 1 लाख दर्शक आश्वस्त थे कि जीत भारतीय टीम के हिस्से ही जाएगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बिखरी भारतीय पारी

सचिन तेंदुलकर और नवजोत सिंह सिद्धू की ओपनिंग जोड़ी मैदान में उतरी. अभी भारतीय पारी में 8 रन ही जुड़े थे कि सिद्धू चंमिडा वास के शिकार बन गए.

सचिन तेंदुलकर ने संजय मांजरेकर के साथ पारी को संभालना शुरू किया. धीरे-धीरे लगने लगा की टीम इंडिया की पारी अब ट्रैक पर आ रही है, तभी 98 रनों के कुल योग पर तेंदुलकर(65) को जयसूर्या ने आउट कर दिया.

मैदान में सन्नाटा सा छा गया था. यह सन्नाटा भारतीय पारी में भी घुस गया, टीम इंडिया की पारी ताश के पत्तों की तरह बिखरने लगी.

कप्तान अज़हरुद्दीन और अजय जडेजा तो खाता तक नहीं खोल सके. मांजरेकर 25 रन बनाकर आउट हुए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दर्शकों का गुस्सा

34वें ओवर की पहली गेंद पर मुथैया मुरलीधरन ने जैसे ही आशीष कपूर को शून्य पर पवेलियन भेजा. भारतीय दर्शकों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया.

उस समय भारत का स्कोर 120/8 रन था. जीत भारत से 132 रन दूर थी जबकि उसके हाथ में सिर्फ 2 विकेट बचे थे. दर्शक समझ चुके थे अब यहां से भारत की हार लगभग तय है.

इमेज कॉपीरइट youtube
Image caption मैच रद्द होने पर रोते हुए पवैलियन लौटते विनोद कांबली

दर्शकों ने मैदान पर बोतलें फेंकना शुरू कर दिया. बोतलों के साथ-साथ वे पत्थर भी फेंकने लगे.

स्टेडियम के कुछ हिस्सों में आग भी लगा दी गई. खिलाड़ियों की सुरक्षा को देखते हुए उन्हें ड्रेसिंग रूम में लौटना पड़ा.

10 रन बनाकर खेल रहे विनोद कांबली मैदान से लौटते वक्त रोने लगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय क्रिकेट का काला दिन

मैच रैफरी क्लाइव लॉयड काफी देर तक दर्शकों के हुड़दंग के खत्म होने का इंतजार करते रहे. पुलिस भी दर्शकों को शांत कराने की कोशिशें करती रही.

लेकिन जब लॉयड को लगा कि इन हालात में मैच पूरा नहीं हो सकता तो उन्होंने अंततः श्रीलंका को मैच का विजेता घोषित कर दिया.

यह दिन भारतीय क्रिकेट के इतिहास में एक काले दिन के रूप में जाना गया. मैदान में मौजूद सुरक्षा इंतजामों के साथ-साथ पिच के ज्यादा टर्न पर भी सवाल खड़े किए गए. सवालों के कटघरे में भारतीय कप्तान अज़हरुद्दीन भी आए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मैच जीतकर फाइनल में पहुंचने वाली श्रीलंकाई टीम के लिए यह विश्वकप ऐतिहासिक साबित हुआ.

फाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया को हराकर श्रीलंका विश्व विजेता बनने में कामयाब रहा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे