ऐशेज़ पर इंग्लैंड का क़ब्ज़ा

इंग्लैंड- 332 और 373/9 (पारी समाप्त घोषित) ऑस्ट्रेलिया- 160 और 348 परिणाम- इंग्लैंड 197 रनों से जीता सिरीज़ परिणाम- इंग्लैंड ने 2-1 से ऐशेज़ पर क़ब्ज़ा किया

इंग्लैंड ने ओवल टेस्ट में अपने चिर प्रतिद्वंद्वी ऑस्ट्रेलिया को पीट कर ऐशेज़ सिरीज़ पर क़ब्ज़ा कर लिया है. इंग्लैंड ने ऐशेज़ 2-1 से जीत ली.

वर्ष 2007 की ऐशेज़ सिरीज़ में ऑस्ट्रेलिया के हाथों 5-0 से पिटने के बाद 2009 की ये जीत इंग्लैंड के लिए काफ़ी ख़ास है. 2005 के बाद इंग्लैंड ने ऐशेज़ पर फिर क़ब्ज़ा किया है.

ओवल टेस्ट में शुरू से ही इंग्लैंड का पलड़ा भारी रहा और दूसरे दिन से ही ऑस्ट्रेलिया की टीम टेस्ट बचाने की कोशिश में लगी रही. लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

पहली पारी के आधार पर ऑस्ट्रेलिया पर 172 रनों की महत्वपूर्ण बढ़त इंग्लैंड के लिए काफ़ी अहम साबित हुई और ऑस्ट्रेलिया की टीम कभी इस दबाव से उबर नहीं पाई.

Image caption इंग्लैंड ने लॉर्ड्स टेस्ट में भी जीत हासिल की थी

पहली पारी में इंग्लैंड ने 332 रन बनाए थे. लेकिन ऑस्ट्रेलिया की टीम 160 रन बनाकर ही आउट हो गई थी. दूसरी पारी में इंग्लैंड ने नौ विकेट पर 373 रन बनाकर पारी समाप्त घोषित कर दी.

इंग्लैंड ने मैच जीतने के लिए ऑस्ट्रेलिया के सामने 546 रनों का लक्ष्य रखा. लेकिन ऑस्ट्रेलिया की टीम 348 रन बनाकर ही आउट हो गई.

इंग्लैंड की ओर से इस टेस्ट में स्टुअर्ट ब्रॉड और ग्रैम स्वान ने शानदार गेंदबाज़ी की. तो इयन बेल, एंड्रयू स्ट्रॉस और जोनाथन ट्रॉट ने बल्लेबाज़ी में कमाल दिखाया.

ओवल टेस्ट की जीत के साथ ही इंग्लैंड के बेहतरीन ऑलराउंडर एंड्रयू फ़्लिंटफ़ का टेस्ट करियर ख़त्म हो गया है. फ़्लिंटफ़ ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि ओवल टेस्ट के बाद वे टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे.

चौथे दिन का खेल

ओवल टेस्ट में जीत हासिल करने के लिए इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के सामने 546 रनों का विशाल लक्ष्य रखा था.

Image caption एंड्रयू फ़्लिंटफ़ का ये आख़िरी टेस्ट था

ऑस्ट्रेलिया ने इस लक्ष्य का पीछा करते हुए अच्छी शुरुआत भी की. तीसरे दिन का खेल ख़त्म होने तक ऑस्ट्रेलिया ने बिना कोई विकेट गँवाए 80 रन बना लिए थे.

उस समय ऐसा लग रहा था कि मैच काफ़ी रोमांचक हो सकता है. लेकिन चौथे दिन स्थिति बदल गई.

साइमन कैटिच के 43 और शेन वॉटसन के 40 रन पर जल्द ही आउट हो जाने के बावजूद कप्तान रिकी पोंटिंग और माइकल हसी ने ऑस्ट्रेलिया की उम्मीद बचाए रखी.

उन्होंने तीसरे विकेट की साझेदारी में 127 रन भी जोड़े. लेकिन रिकी पोंटिंग और माइकल क्लार्क का एक के बाद एक रन आउट हो जाना ऑस्ट्रेलिया के लिए सबसे बड़ा झटका साबित हुआ.

ऑस्ट्रेलिया की टीम इस बड़े झटके से उबर नहीं आई. माइकल हसी ने एक छोर भले ही संभाले रखा और बीच में ब्रैड हैडिन ने भले ही 34 रनों की पारी खेली, लेकिन इससे ऑस्ट्रेलिया की टीम लक्ष्य के पास भी नहीं फटक पाई.

माइकल हसी आख़िरी विकेट के रूप में आउट हुए. उन्होंने 121 रनों की पारी खेली. ऑस्ट्रेलिया की टीम 348 रन बनाकर आउट हो गई.

इंग्लैंड की ओर से ग्रैम स्वान ने चार विकेट लिए. स्टीव हार्मिसन ने तीन विकेट लिए. एक विकेट स्टुअर्ट ब्रॉड को मिला.

ओवल टेस्ट की पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया को सिर्फ़ 160 रन पर समेटने में अहम भूमिका निभाने वाले स्टुअर्ट ब्रॉड को मैन ऑफ़ द मैच चुना गया.

स्टुअर्ट ब्रॉड ने पहली पारी में सिर्फ़ 37 रन देकर पाँच विकेट लिए. इंग्लैंड के कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस और ऑस्ट्रेलिया के माइकल क्लार्क को मैन ऑफ़ द सिरीज़ का पुरस्कार मिला.

संबंधित समाचार