दिल्ली रणजी टीम का विवाद सुलझा

वीरेंदर सहवाग
Image caption सहवाग का आरोप था कि संघ के अधिकारी चयन प्रक्रिया में दबाव डालते हैं

दिल्ली ज़िला क्रिकेट संघ ने सहवाग समेत अन्य बाग़ी खिलाड़ियों की माँगें मान ली है.

इसके साथ ही दिल्ली रणजी टीम का संकट ख़त्म हो गया.

वीरेंदर सहवाग ने दिल्ली की टीम की चयन प्रक्रिया में अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए हरियाणा की टीम से खेलने की धमकी दी थी.

उसके बाद गौतम गंभीर ने उनका समर्थन किया. सहवाग ने अपने साथ कई और खिलाड़ियों के होने की बात कही थी.

इन दोनों के साथ ईशांत शर्मा भी प्रैक्टिस के लिए नहीं जा रहे थे.

डीडीसीए के अध्यक्ष अरुण जेटली ने मंगलवार को बताया कि सहवाग और गंभीर से उनकी मुलाक़ात हुई है.

उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों की वाजिब माँगों को मान लिया गया है और अब दिल्ली की रणजी टीम में कोई संकट नहीं है.

जेटली का कहना था, “उनके सुझावों के अनुरुप चयन समिति की संख्या घटाने पर विचार किया जाएगा और चयन में किसी तरह का दबाव बर्दाश्त नहीं होगा.”

चयन प्रक्रिया पर कीर्ति आज़ाद के आरोपों पर जेटली का कहना था कि इसकी जाँच की जाएगी और आरोप सही पाए जाने पर दोषियों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई होगी.

पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आज़ाद ने कहा था कि दिल्ली के चयनकर्ता टैलेंट को दरकिनार कर अन्य प्रलोभनों में आकर खिलाड़ी चुनते हैं.

संबंधित समाचार