आईसीसी और पीसीबी में समझौता

आईसीसी के अध्यक्ष डेविड मॉर्गन
Image caption डेविड मॉर्गन ने पीसीबी के साथ हुए समझौते पर ख़ुशी ज़ाहिर की है

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद यानी आईसीसी ने वर्ष 2011 के विश्व कप की संयुक्त मेज़बानी के मामले पर पाकिस्तान के साथ विवाद को हल कर लिया है.

सुरक्षा चिंताओं की वजह से पाकिस्तान को संयुक्त मेज़बानी की सूची से हटा दिया गया था.

पहले पाकिस्तान में जो 14 मैच कराने की बात कही गई थी, सुरक्षा चिंताओं की वजह से वे भारत, बांग्लादेश और श्रीलंका को दे दिए गए हैं.

आईसीसी के अध्यक्ष डेविड मॉर्गन और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड यानी पीसीबी के अध्यक्ष ऐजाज़ बट के बीच गुरूवार को दुबई में हुई एक बैठक में यह सहमति हुई है.

इस सहमति के बाद पाकिस्तान अब अपनी क़ानूनी चुनौती वापिस लेने पर भी राज़ी हो गया है.

आईसीसी के एक वक्तव्य में कहा गया है कि दोनों पक्षों के बीच यह सहमति भी हुई है कि पाकिस्तान को मेज़बान के तौर पर जो धन मिलता, वो उसे अब भी मिलेगा. इसके अलावा कुछ धनराशि मुआवज़े के तौर पर भी मिलेगी.

आईसीसी के अध्यक्ष डेविड मॉर्गन ने कहा, “मुझे असीम प्रसन्नता है कि दोनों पक्षों के बीच आपसी समझ से ही समझौता हो गया है और मेरा विश्वास है कि पीसीबी और आईसीसी दोनों के लिए ही विवाद का यह निष्पक्ष हल है.”

उन्होंने कहा, “यह हल विश्व क्रिकेट के लिए अच्छा है और इसके बाद विश्व कप-2011 के एक बेहतर प्लेटफ़ॉर्म मिलेगा क्योंकि यह विवाद खड़ा होने के बाद विश्व कप के इर्दगिर्द कुछ अनिश्चितताएँ फैल गई थीं जो अब समाप्त हो जाएंगी.”

लंबी बातचीत

दोनों पक्षों के बीच यह विवाद सुलझाने के लिए काफ़ी लंबी बातचीत चली है. आईसीसी के बोर्ड ने विश्व कप 2011 के 14 मैच सुरक्षा चिंताओं के बीच पाकिस्तान से हटाने का फ़ैसला अप्रैल 2009 में किया था.

ये वो समय था जब लाहौर में मार्च में श्रीलंका के क्रिकेट खिलाड़ियों पर कुछ बंदूकधारियों ने हमला किया जिसमें सात लोग मारे गए और छह खिलाड़ी भी घायल हो गए थे.

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को हाल के समय में ख़ासी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है क्योंकि वर्ष 2008 की चैम्पियंस ट्रॉफ़ी भी सुरक्षा चिंताओं की वजह से वहाँ नहीं हो पाई थी और अब वो प्रतियोगिता सितंबर में दक्षिण अफ्रीका में प्रस्तावित है.

पाकिस्तान ने आईसीसी के साथ गुरूवार को हुए समझौते का स्वागत करते हुए उम्मीद जताई है कि इससे देश में क्रिकेट का मौहाल कुछ बेहतर होगा जो अनेक टीमों के नहीं आने की वजह से कुछ धूमिल हुआ है.

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष ऐजाज़ बट ने कहा, “बोर्ड इस समझौते से संतुष्ट है. हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता ये है कि पाकिस्तान में क्रिकेट को बेवजह नुक़सान नहीं होना चाहिए और मेरा मानना है कि यह फ़ैसला पाकिस्तानी क्रिकेट के लिए बेहतर नतीजा है.”

संबंधित समाचार