भारत हारा, ताज भी छिना

सनत जयसूर्या
Image caption जयसूर्या का फ़ॉर्म में लौटना भारत पर भारी पड़ा.

सनत जयसूर्या और कंदांबी की शानदार बल्लेबाज़ी और मैथ्यूज़ की घातक गेंदबाज़ी की बदौलत श्रीलंका ने न सिर्फ़ भारत को विशाल रनों के अंतर से पराजित कर दिया बल्कि उसे दुनिया की क्रिकेट रैंकिंग में नंबर एक से नंबर दो पर ला खड़ा किया.

त्रिकोणीय श्रृंखला में भारत ने शुक्रवार को न्यूज़ीलैंड को हराकर दुनिया की नंबर एक टीम बनने का गौरव प्राप्त किया था.

लेकिन शनिवार को कोलोंबो में श्रीलंका की टीम के सामने भारतीय दिग्गज बेबस से नज़र आए और 139 रनों से मैच गंवा दिया.

जयसूर्या के 79 गेंदों में 98 रन और कंदांबी के 73 गेंदों में 91 नाबाद की पारी ने श्रीलंका को 307 के विशाल स्कोर पर पहुंचा दिया.

जवाब में भारतीय टीम केवल 168 रनों के स्कोर पर सिमट गई.

भारतीय टीम को इस हाल में पहुंचाने का श्रेय गया श्रीलंका के उभरते गेंदबाज़ ऐंजेलो मैथ्यूज़ को जिन्होंने अपने क्रिकेट करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए केवल बीस रन देकर छह विकेट झटक लिए.

भारत की तरफ़ से सबसे अधिक योगदान रहा राहुल द्रविड़ का जिन्होंने 47 रन बनाए लेकिन अचानक से मध्यक्रम ऐसा धराशायी हुआ कि केवल तेरह रनों के अंतराल में पांच विकेट लुढ़क गए.

नंबर एक से नंबर दो

सोमवार को भारत और श्रीलंका इस त्रिकोणीय मुक़ाबले के फ़ाइनल में भिड़ेंगे क्योंकि दोनों ही टीमें न्यूज़ीलैंड को हरा चुकी हैं.

22 सितंबर से श्रीलंका में ही चैंपियंस ट्रॉफ़ी की शुरूआत हो रही है और आज की हार से चैंपियंस ट्रॉफ़ी में दुनिया की नंबर एक टीम बन कर प्रवेश करने के भारतीय सपने पर पानी फिर गया है.

नंबर एक पोजीशन से दक्षिण अफ़्रीका को खिसकाने के लिए भारत के लिए इस त्रिकोणीय मुक़ाबले का हर मैच जीतना ज़रूरी था.

शनिवार को ही भारत के जानेमाने क्रिकेट प्रशासक राज सिंह डुंगरपुर के मृत्यु की भी ख़बर आई.

दोनों ही टीमों ने उनकी याद में खेल शुरू होने से पहले एक मिनट का मौन रखा और भारतीय खिलाड़ी मैदान में काली पट्टी बांध कर उतरे.

संबंधित समाचार