''मिल जुलकर हो रहा है काम''

सुरेश कलमाड़ी
Image caption कलमाड़ी ने कहा कि आयोजन सफल बनाने में कोई कोर-क़सर बाक़ी नहीं छोड़ी जाएगी.

भारतीय ओलंपिक एसोसिएशन के प्रमुख सुरेश कलमाडी ने 2010 में नई दिल्ली में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारियों के बारे में छाए संदेह के बादल हटाने की कोशिश की है.

सुरेश कलमाडी ने बुधवार को नई दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत करते हुए वादा करने के अंदाज़ में कहा कि राष्ट्रमंडल खेल सफलतापूर्वक आयोजित किए जाएंगे क्योंकि भारत सरकार का पूरा समर्थन और सहायता आयोजन समिति को हासिल है.

राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के अध्यक्ष माइकल फैनेल ने आगाह किया था कि नई दिल्ली में वर्ष 2010 में प्रस्तावित राष्ट्रमंडल खेल कहीं नाकाम ना हो जाएँ. इन्हीं चिंताओं के बीच सुरेश कलमाडी ने पत्रकारों से बातचीत की और कहा कि खेलों के आयोजन से संबद्ध सभी लोग पूरी मुस्तैदी से काम कर रहे हैं और इनमें विदेशी सलाहकार भी शामिल हैं.

सुरेश कलमाडी ने कहा, "मैं कहना चाहूँगा कि भारत सरकार राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन समिति को भरपूर तरीक़े से समर्थन और सहायता दे रही है. खेल मंत्री, दिल्ली की मुख्यमंत्री और गवर्नर और मेरे सारे सहयोगी इन खेलों को कामयाब बनाने के लिए सभी एक टीम के रूप में मिलजुलकर काम कर रहें."

उन्होंने कहा, "हम सभी लोग बहुत रफ़्तार के साथ काम कर रहे हैं. हमारे साथ तकनीकी रूप से प्रशिक्षित लोग इस रफ़्तार में शामिल हैं. इनमें वो विशेषज्ञ और सलाहकार भी शामिल हैं जिन्हें अफ्रो-एशियाई खेलों, बैडमिंटन विश्व चैम्पियनशिप और अन्य राष्ट्रीय खेलों के आयोजन का अनुभव हासिल है."

योग्यता और श्रेष्ठता

सुरेश कलमाडी भारतीय ओलंपिक एसोसिएशन के प्रमुख होने के साथ-साथ राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन समिति के भी अध्यक्ष हैं.

उन्होंने कहा, "राष्ट्रमंडल खेल महासंघ की सलाह पर हमने कुछ विदेशी सलाहकारों की भी सेवाएँ ली हैं ताकि इन महत्वाकांक्षी खेलों की तैयारी में कोई कोर-क़सर बाक़ी ना रहे. मेरा ख़याल है कि हमारे पास ऐसे 30-40 सलाहकार हैं. इस तरह हम सभी कंधे से कंधा मिलाकर तेज़ी से काम कर रहे हैं ताकि इन खेलों को सफल किया जा सके."

सुरेश कलमाडी ने कहा कि राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के अध्यक्ष माइकल फैनेल ने ख़ुद सितंबर के आरंभ में कहा था कि नई दिल्ली में होने वाले इन राष्ट्रमंडल खेलों की "तैयारियाँ कुल मिलाकर नियंत्रण में हैं" और अगर कोई अन्य सुझाव आ रहे हैं तो ओलंपिक समिति उन पर भी रचनात्मक तरीके से काम करेगी.

उनका कहना था, "माइकल फ़ैनेल एक योग्य खेल प्रशासक हैं. उन्होंने सितंबर में ही वॉल स्ट्रीट जर्नल में लिखा था कि जब तक काम पूरा नहीं हो जाता है तब तक कभी भी संतोष नहीं होता है, कुल मिलाकर तैयारियाँ नियंत्रण में हैं."

कलमाडी ने कहा कि कुछ इधर-उधर के आयोजन रद्द किए जा रहे हैं और खेलों से पहले होने वाली कुछ अन्य घटनाएँ भी निरस्त की जा रही हैं, "अक्तूबर में इंडिया गेट पर आयोजित होने वाला एआर रहमान का शो रद्द किया जा रहा है. इसके अलावा 29 अक्तूबर को लंदन के ट्रैफ़लगर स्क्वैयर पर होने वाला सांस्कृतिक कार्यक्रम भी निरस्त किया जा रहा है. और हम सभी हवाई जहाज़ों में सस्ते दर्जे में यात्रा करने वाले हैं."

भारतीय ओलंपिक एसोसिएशन के महासचिव रणधीर सिंह ने कहा है कि राष्ट्रमंडल खेल महासंघ की तरफ़ से जो इशारा मिला है उसे ग़लत संदर्भ में क़तई नहीं लिया जा रहा है और उसका स्वागत है.

रणधीर सिंह ने कहा, "2010 के राष्ट्रमंडल खेल सिर्फ़ आयोजित होने के साथ ही समाप्त नहीं हो जाएंगे बल्कि हमारे लिए ये एक ऐसा अवसर होगा जिसके ज़रिए हम दुनिया भर को हम अपनी क्षमता और योग्यता दिखाएँगे. हम एशियाई और ओलंपिक खेलों का आयोजन करने की भी उम्मीद लगाए बैठे हैं इसलिए हमें राष्ट्रमंडल खेलों को हर क़ीमत पर सफल बनाना है."

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है