बॉक्सर विजेंदर परसेप्ट के साथ

विजेंदर सिंह

भारतीय मुक्केबाज़ विजेंदर के लिए ये पिछले बारह महीने एक सपने की तरह रहे हैं. क़रीब साल भर पहले उन्होंने बीजिंग ओलंपिक खेलों में भारत के लिए कांस्य पदक जीता और अब विश्व मुक्केबाज़ी चैंपियनशिप में भी कांस्य पदक.

इसी बीच वो टेलीविज़न कार्यक्रमों और विज्ञापनों में भी छाए रहे.

और हाल ही में उनके और परसेप्ट टेलेंट मैनेजमेंट के बीच एक बड़ा क़रार हुआ है. इस क़रार की क़ीमत तो विजेंदर ने नहीं बताई लेकिन ऐसी ख़बरें हैं कि ये भारत में किसी भी ग़ैर-क्रिकेट खिलाड़ी के लिए सानिया मिर्ज़ा के बाद सबसे बड़ा क़रार है.

सुनिए मुक्केबाज़ विजेंदर सिंह से बातचीत

बीबीसी से ख़ास बातचीत में विजेंदर इसे ‘डील’ कहने से गुरेज़ करते हैं और इसे साझेदारी का नाम देते हैं.

विजेंदर ने बीबीसी को बताया ‘परसेप्ट बहुत बड़ी कंपनी है. मैं और परसेप्ट मिलकर बॉक्सिंग का प्रसार करेंगे. हमारा उद्देश्य है कि हम मिलकर इस खेल को हर विद्यालय और कॉलेज तक पहुंचाएं. हम मुक्केबाज़ी को हर इलाक़े में पहुंचा कर और कई स्टार बनाना चाहेंगे’

विजेंदर ने कहा कि वो एक्शन स्पोर्ट को देश में प्रसिद्ध बनाना चाहते हैं. उन्होंने कहा ‘ विजेंदर बॉक्सिंग का जाना-माना चेहरा है. अगर मैं आपको बॉक्सिंग के बारे में कुछ बताता हूं तो आप स्वीकार कर लेंगे क्योंकि आप मेरी पृष्ठभूमि जानते हैं. मुझे बॉक्सिंग के माध्यम एक्शन खेलों को मशहूर बनाने का अवसर मिला है.’

विजेंदर ने बीबीसी को बताया कि बॉक्सिंग के अलावा वो ताइक्वांडो और जूडो जैसे एक्शन खेलों का प्रसार करेंगे.

विजेंदर कहते हैं कि बॉक्सिंग ने उन्हें जो पहचान दी है वो उसका इस्तेमाल इस खेल को प्रसारित करने के लिए करना चाहते हैं.

परसेप्ट विजेंदर को एक्शन स्पोर्ट के प्रतीक के रुप में एक पहचान देना चाहती है. कंपनी इसके लिए उन्हें टीवी के अलावा बॉक्सिंग से जुड़े कार्यक्रमों में इस्तेमाल करेगी. और विज्ञापन तो होंगे ही.

विजेंदर ने बीबीसी को बताया कि इस साझेदारी के दौरान क्या-कुछ होगा. उन्होंने कहा ‘भविष्य की योजना है कि जो भी एडवेंचर स्पोर्ट हैं उन्हें प्रोमोट करना, उसमें भी बॉक्सिंग है. इस दौरान हम कई शो भी करेंगे, बॉक्सिंग के मुक़ाबले करेंगे. ये बॉक्सिंग को घर-घर तक ले जाने की हमारी पहल है, कोशिश है’

फिलहाल हरियाणा और विशेषकर भिवानी से काफ़ी कामयाब मुक्केबाज़ सामने आए हैं. विजेंदर को इस बात गर्व तो है लेकिन वो चाहते हैं कि देश के बाक़ी हिस्सों में ये खेल पहुंचे.

बीबीसी से विशेष बातचीत में विजेंदर ने कहा ‘ सभी जानते हैं कि भारत की क्रिकेट काफ़ी अच्छी है. एक ज़माने में हमारी हॉकी भी बहुत बढ़िया थी. मैं चाहता हूं कि अब लोग ये जान जाएं कि भारत में बॉक्सिंग भी अच्छी है. मुझे बस इसी का इंतज़ार है.’

संबंधित समाचार