राष्ट्रमंडल खेलों का बजट बढ़ा

राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी
Image caption भारत सरकार राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी में देरी के आरोपों का सामना कर रही है

तैयारी में ढिलाई के आरोपों और राष्ट्रमंडल खेल संघ के साथ खींचतान में फँसे राष्ट्रमंडल खेलों के लिए केंद्र सरकार ने बजट दो गुना करने की घोषणा की है.

अब तक राष्ट्रमंडल खेलों के लिए 767 करोड़ रुपए स्वीकृत थे मगर अब ये बजट बढ़ाकर 1620 करोड़ रुपयों का कर दिया गया है.

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने लागत बढ़ने की कई वजहें गिनाईं. सोनी का कहना था कि उदघाटन और समापन समारोहों की लागत बढ़ गई है, इसके अलावा क्वींस बैटन की कुल यात्रा का समय भी बढ़ गया है और इन्हीं वजहों को देखते हुए बजट बढ़ाया गया है.

माना जा रहा है कि इस आयोजन के ज़रिए भारत सरकार की कोशिश दिल्ली को अंतरराष्ट्रीय मानचित्र में प्रमुखता दिलाना है.

सोनी ने कहा, "बजट बढ़ाना इसलिए ज़रूरी समझा गया क्योंकि खेलों के सफल आयोजन के लिए कुछ नई चीज़ें जोड़ी गई हैं जिनका शुरुआती बजट में ज़िक्र नहीं था."

अगले साल तीन से 14 अक्तूबर के बीच दिल्ली में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान भारत सरकार लगभग एक लाख विदेशियों के आने का अनुमान लगा रही है.

संबंधित समाचार

संबंधित इंटरनेट लिंक

बीबीसी बाहरी इंटरनेट साइट की सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है