'सचिन का एक सपना पूरा नहीं हुआ है'

सचिन
Image caption अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सचिन के बीस साल पूरे हो गए हैं.

कई वर्षों तक सचिन के साथ पारी की शुरुआत कर चुके भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली का कहना है कि मास्टर ब्लास्टर का कोई जवाब नहीं लेकिन एक लक्ष्य अभी बाक़ी है.

सचिन के साथ बीते कई ऐतिहासिक क्षणों को याद करते हुए सौरभ गांगुली कहते हैं, "वे बीस साल में कई नए रिकॉर्ड बना चुके हैं. लेकिन मैं चाहता हूँ कि वे भारत को एक बार फिर विश्व विजेता बना दें."

सचिन भी कई बार ख़ुद कह चुके हैं कि वर्ष 2003 विश्व कप फ़ाइनल में मिली हार उनके सबसे दुखद क्षणों में से है.

सौरभ उस समय टीम के कप्तान थे. वे सचिन के बारे में कहते हैं, "एकदिवसीय क्रिकेट में 17 हजार रन बनाना एक बहुत बड़ी कामयाबी है. मैं चाहता हूं कि सचिन एकदिवसीय क्रिकेट में अपने बीस हज़ार पूरे करें और साथ ही भारत को एक बार फिर विश्व चैंपियन बना दें."

सौरभ कहते हैं, "सचिन दुनिया के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटरों में से एक है. उनके साथ मेरी बहुत अच्छी यादें जुड़ी हैं. वन डे क्रिकेट में मैंने कई साल उनके साथ पारी की शुरुआत की है."

उन्होंने तेंदुलकर को वर्ष 2011 में भारतीय उपमहाद्वीप में होने वाले विश्वकप के लिए शुभकामना देते हुए कहा, "मैं दुआ करता हूँ कि वे 2011 विश्व कप तक और बीस हजार रन बना लें."

गांगुली कहते हैं कि एक बार लय में आ जाने पर सचिन को रोक पाना बहुत मुश्किल होता है. रिकॉर्ड और सचिन के रिश्ते पर सौरभ कहते हैं, "सचिन का रिकॉर्ड तोड़ना दुनिया के किसी भी बल्लेबाज के लिए बहुत मुश्किल होगा. अब वे जब भी बल्लेबाज़ी के लिए मैदान में उतरेंगे, उनके नाम रिकॉर्ड खुद-ब-खुद जुड़ते रहेंगे. वे दुनिया के सर्वकालीन महान बल्लेबाजों में से एक हैं."

सौरभ गांगुली ने पिछले साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. कुछ दिनों पहले उन्हें कोलकाता नाइट राइडर्स का कप्तान फिर नियुक्त किया गया है.

सौरभ अपनी इन व्यस्तताओं के बीच ही अपने संस्मरणों को पुस्तक की शक्ल देने की भी तैयारी कर रहे हैं.

संबंधित समाचार