आईपीएल में बोली न लगने से नाराज़

पाकिस्तान के खिलाड़ियों ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के तीसरे संस्करण में उन्हें न ख़रीदे जाने पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है.

पाकिस्तान के क्रिकेट बोर्ड में भी इसे लेकर निराशा जताई है और कहा है कि वह इस संबंध में आईपीएल के चेयरमैन ललित मोदी से बात करेगा.

दूसरी ओर पाकिस्तान के खेल मंत्री ने इस पर भारत के खेल मंत्री को फ़ोन करके शिकायत दर्ज करवाई है.

नाराज़ खिलाड़ी

शाहिद अफ़रीदी ने नीलामी के बाद कहा कि वो अपने आपको और अपने देश को अपमानित महसूस कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान टी-20 की विश्वविजेता है लेकिन इसके खिलाड़ियों के प्रति आईपीएल टीमों का रवैया निराशाजनक रहा है.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी खिलाड़ियों के न चुने जाने से उनके भारतीयों प्रशंसकों को भी दुख पहुंचा होगा.

वर्ष 2008 में राजस्थान रॉयल्स की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले सुहेल तनवीर भी इससे निराश हैं.

उनका कहना था,'' पहले दौर में हमारी बहुत माँग थी और हमने बहुत से दोस्त भी बनाए. लेकिन ये निराशाजनक है कि पहले तो हमें आवेदन करने को कहा गया फिर हमें किसी ने नहीं ख़रीदा.''

प्रशासन को भी शिकायत

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के प्रमुख एजाज़ बट का कहना था कि इससे उन्हें निराशा हुई है.

उनका कहना था,'' ये बहुत निराशाजनक है क्योंकि हमने वीज़ा और अन्य सारी बाधाएँ दूर की थीं. मैं इस मसले पर आईपीएल चेयरमैन ललित मोदी से बात करूंगा.''

समाचार एजेंसी एएफ़पी के अनुसार पाकिस्तान के खेल मंत्री एजाज़ हुसैन जाखरानी ने कहा कि उन्होंने इस बात की शिकायत भारतीय खेल मंत्री से की है.

उनका कहना था,'' मैंने भारत के खेल मंत्री को फ़ोन किया और पाकिस्तान के खिलाड़ियों के साथ अन्यायपूर्ण और भेदभाव भरे व्यवहार पर अपना विरोध जताया.''

ग़ौरतलब है कि इंडियन प्रीमियर लीग के तीसरे संस्करण में पाकिस्तान के किसी भी खिलाड़ी को कोई ख़रीददार नहीं मिल सका.

हालांकि विस्फोटक बल्लेबाज़ और आलराउंडर शाहिद अफ़रीदी, कामरान अकमल, सोहेल तनवीर, उमर अकमल, इमरान नज़ीर, मोहम्मद आमेर, राना नवेद समेत11 पाक खिलाड़ी दांव पर थे.

लेकिन किसी भी टीम ने इन खिलाड़ियों में दिलचस्पी नहीं दिखाई.

संबंधित समाचार