भारत 'क्लीन स्वीप' की कोशिश में

भारतीय टीम
Image caption भारत सिरीज़ में 1-0 से आगे है

भारत और बांग्लादेश के बीच दूसरा और आख़िरी टेस्ट मैच रविवार से मीरपुर में शुरू होगा. पहले टेस्ट में 113 रनों से जीत हासिल करने के बाद भारत ने सिरीज़ में 1-0 से बढ़त हासिल की हुई है.

चटगाँव में हुए पहले टेस्ट में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और हरभजन सिंह चोट के कारण नही खेल पाए थे. लेकिन इस टेस्ट में दोनों खेलेंगे.

वीवीएस लक्ष्मण की उंगली में चोट है. इस कारण उनका इस टेस्ट में खेलना संदिग्ध है, तो दूसरी ओर तेज़ गेंदबाज़ एस श्रीसंत मांसपेशियों में खिंचाव के कारण स्वदेश लौट रहे हैं.

वैसे भी जानकारों की मानें, तो मीरपुर टेस्ट में भारत दो तेज़ गेंदबाज़ों और दो स्पिनरों के साथ उतर सकता है.

मौक़ा

इस टेस्ट में तेज़ गेंदबाज़ी की कमान ईशांत शर्मा और ज़हीर ख़ान के हाथों में होगी. दोनों ने चटगाँव टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन किया था.

अगर भारत दो स्पिनरों के साथ मैदान में उतरता है, तो हरभजन सिंह के साथ अमित मिश्रा को मौक़ा मिलने की ज़्यादा संभावना है क्योंकि अमित मिश्रा ने चटगाँव में अच्छा प्रदर्शन किया था.

बल्लेबाज़ी के मोर्चे पर भारतीय टीम चटगाँव टेस्ट की पहली पारी की स्थिति नहीं दोहराना चाहेगी. सबसे ज़्यादा दबाव युवराज सिंह पर है, जो टेस्ट मैचों में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं.

चटगाँव टेस्ट में भी युवराज ने 12 और 25 रनों की पारी खेली. एक बार फिर नज़रें मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर पर भी होंगी, जिन्होंने चटगाँव में शतक लगाया था और मैन ऑफ़ द मैच का पुरस्कार भी जीता था.

प्रदर्शन

बांग्लादेश की टीम में खिलाड़ी चोट से तो नहीं जूझ रहे लेकिन अच्छे प्रदर्शन का उन पर काफ़ी दबाव है.

Image caption धोनी इस टेस्ट में खेलेंगे

चटगाँव टेस्ट में केवल मुशफ़िकुर रहीम, तमीम इक़बाल और मोहम्मदुल्लाह ही अच्छा प्रदर्शन कर पाए थे.

बांग्लादेश के कोच जेमी सिडंस पहले ही मोहम्मद अशरफ़ुल के प्रदर्शन पर निराशा व्यक्त कर चुके हैं. अरशफ़ुल के अलावा शहरयार नफ़ीस भी चटगाँव टेस्ट में फ़्लॉप साबित हुए थे.

गेंदबाज़ी की बात करें, तो चटगाँव टेस्ट में कप्तान शाकिब अल हसन और शहादत हुसैन ने काफ़ी अच्छी गेंदबाज़ी की थी.

अब देखना ये है कि भारत 2-0 से सिरीज़ जीतता है या बांग्लादेश सिरीज़ बराबर करता है.

संबंधित समाचार