निशाने पर सुरेश कलमाडी

सुरेश कलमाडी
Image caption सुरेश कलमाडी का कहना है कि उनके पास हॉकी इंडिया की ज़िम्मेदारी उठाने का समय नहीं है

भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान परगट सिंह ने इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश कलमाडी को ‘खेल माफ़िया’ की संज्ञा दी है और आरोप लगाया है कि कलमाडी जानबूझ कर हॉकी इंडिया के चुनाव में देरी करा रहे हैं क्योंकि वे ख़ुद हॉकी इंडिया के अध्यक्ष बनना चाहते हैं.

कलमाडी ने यह कहते हुए इस आरोप का खंडन किया कि उनके पास यह ज़िम्मेदारी उठाने का समय ही नहीं है.

उन्होने एक बयान में कहा, "मैं इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन का अध्यक्ष हूं और राष्ट्रमंडल खेलों की आयोजन समिति का भी अध्यक्ष हूं. इन दोनों ज़िम्मेदारियों में मैं पूरी तरह व्यस्त रहता हूं. हॉकी इंडिया की ज़िम्मेदारी उठाने के लिए न मेरे पास समय है और न ही दिलचस्पी."

परगट सिंह का कहना है कि महाराष्ट्र हॉकी एसोसिएशन पर भारी दबाव डाले जाने के बावजूद जब कलमाडी को महाराष्ट्र से नामांकन नहीं मिला तो वो और उनके समर्थक घबरा गए.

पूर्व कप्तान परगट सिंह ने हाल में हॉकी खिलाड़ियों की बग़ावत के लिए भी कलमाडी को ही ज़िम्मेदार ठहराया.

विवाद की पृ्ष्ठभूमि

कलमाडी ने असंतुष्ट समूहों पर आरोप लगाया कि हॉकी इंडिया के चुनाव में दरसल उन्होने बाधा डाली है और उन्होने ही अदालत का दरवाज़ा खटखटाया है.

हॉकी इंडिया के चुनाव सात फ़रवरी को होने थे मगर राज्यों की जिन इकाइयों को पिछले दिनों मान्यता दी गई थी, राजस्थान उच्च न्यायालय ने उस पर रोक लगा दी.

इसके बाद हॉकी इंडिया ने क़ानूनी सलाह ली और सात फ़रवरी को होने वाले चुनाव स्थगित कर दिए.

दिल्ली में मेजर ध्यान चंद राष्ट्रीय स्टेडियम को दुरुस्त किए जाने के बाद रविवार को उसका लोकार्पण हुआ और उसी दौरान भारत के खेल मंत्री मनोहर सिंह गिल ने कहा कि हॉकी इंडिया के चुनाव स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी होने चाहिए.

उनका कहना था कि राज्यों से चुने गए हॉकी संघों की सूची सबके सामने होनी चाहिए, जिससे पारदर्शी ढंग से चुनाव हों.

इस मौक़े पर डॉक्टर गिल ने कहा, "किसी भी चुनाव के लिए ज़रूरी है कि मतदान करने वालों की सूची बिल्कुल सही हो. इसके अलावा चुनाव कराने वाला अधिकारी किसी से भी जुड़ा हुआ नहीं होना चाहिए."

अब अगर हॉकी इंडिया के चुनाव 28 फ़रवरी से शुरू होने वाले विश्व कप से पहले नहीं होते हैं तो विश्व कप में भारत के हिस्सा लेने पर भी ग्रहण लग सकता है.

वैसे हॉकी इंडिया के अधिकारी एनके बत्रा का कहना है कि इन सब विवादों के बावजूद दिल्ली में विश्व कप होगा.

संबंधित समाचार