भारतीय गेंदबाज़ों के पसीने छूटे

तमीम इक़बाल
Image caption तमीम इक़बाल ने शानदार सेंचुरी लगाई

मीरपुर टेस्ट के तीसरे दिन भारत ने अपनी पहली पारी आठ विकेट पर 544 रन बनाकर घोषित कर दी और पहली पारी के आधार पर 311 रनों की भारी बढ़त हासिल की.

बांग्लादेश ने अपनी पहली पारी में सिर्फ़ 233 रन बनाए थे लेकिन दूसरी पारी में टीम के ऊपरी क्रम ने ज़बर्दस्त बल्लेबाज़ी से भारतीय गेंदबाज़ों के हौसले पस्त कर दिए.

Image caption इक़बाल और सिद्दिकी के बीच दो सौ रनों की साझीदारी हुई.

दिन का खेल ख़त्म होने तक बांग्लादेश ने तीन विकेट पर 228 रन बना लिए थे.

बांग्लादेश का पहला विकेट 19 रनों के योग पर ही गिर गया था जब इमरुल कायस को ज़हीर ख़ान ने पाँच के निजी स्कोर पर चलता कर दिया.

लेकिन उसके बाद दूसरा विकेट हासिल करने के लिए भारतीय गेंदबाज़ों को लंबा इंतज़ार करना पड़ा. इस बीच तमीम इक़बाल और जुनैद सिद्दिकी के बीच 200 रनों की शानदार साझीदारी हुई.

तमीम इक़बाल ने 183 गेंदों पर तीन छक्कों और 18 चौकों की सहायता से 151 रन बनाए. हालाँकि आख़िरी सत्र में वे ज़हीर ख़ान की गेंद पर विकेट के पीछे लपके गए.

जुनैद ने धीमा खेलते हुए 55 रन बनाए और वे भी ज़हीर की गेंद पर ही लपके गए.

खेल ख़त्म होने समय शहादत हुसैन और मोहम्मद अशरफुल दो-दो रन बनाकर क्रीज़ पर थे.

भारतीय पारी

Image caption धोनी ने भी अर्धशतक लगाया.

सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ ने दूसरे दिन ही शानदार शतक जमाए थे लेकिन तीसरा दिन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के नाम रहा.

धोनी ने ज़हीर खान ने साथ मिलकर छठे विकेट के लिए आठ रन ही जोडे़ थे कि शैफुल इस्लाम ने ज़हीर को बिना खाता खोले ही आउट कर दिया.

फिर धोनी ने ईशांत के साथ सातवें विकेट के लिए अर्धशतकीय साझेदारी करते हुए 84 गेंदों पर सात चौके और एक छक्का जड़ते हुए अपना 17वां अर्धशतक पूरा किया.

अशरफुल ने जल्द ही ईशांत को अपनी फिरकी के जाल में फंसाते हुए रहीम के हाथों कैच करा इस जोड़ी को तोड़ा.

धौनी धैर्य के साथ अपनी पारी को आगे बढ़ा रहे थे लेकिन लंच से पहले अंतिम ओवर की आखिरी गेंद पर वह रक़ीब की गेंद पर स्टंप हो गए. उन्होंने नौ चौकों और दो छक्कों की मदद से 167 गेंदों पर 89 रन बनाए.

संबंधित समाचार