यूसुफ़-यूनिस पर स्पष्टीकरण

मोहम्मद यूसुफ़
Image caption मोहम्मद यूसुफ़ ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर कप्तान थे

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने स्पष्ट किया है कि मोहम्मद यूसुफ़ और यूनिस ख़ान के क्रिकेट खेलने पर आजीवन पाबंदी नहीं लगाई गई है.

पीसीबी ने एक बयान जारी करके कहा है कि उसकी बातों का ग़लत मतलब निकाला गया है.

बोर्ड का कहना है कि इन दोनों खिलाड़ियों पर देश के लिए खेलने पर प्रतिबंध तो लगाया गया है लेकिन बोर्ड जब उचित समझेगा, इन खिलाड़ियों को राष्ट्रीय टीम में जगह मिल सकती है.

पीसीबी ने अपने स्पष्टीकरण वाले बयान में कहा है- पाकिस्तानी टीम के प्रदर्शन पर जाँच समिति की रिपोर्ट पर पीसीबी ने मीडिया रिलीज़ जारी की थी. कुछ मीडिया चैनल ने मोहम्मद यूसुफ़ और यूनिस ख़ान से संबंधित सिफ़ारिश को आजीवन पाबंदी समझ ली.

सिफ़ारिश

पीसीबी ने कहा है कि समिति ने इन क्रिकेटरों पर आजीवन पाबंदी की सिफ़ारिश नहीं की है. इन क्रिकेटरों के संबंध में की गई सिफ़ारिश के लिए कोई समयसीमा निर्धारित नहीं की गई है.

बोर्ड का कहना है कि जब भी उचित समझा जाएगा इन खिलाड़ियों के राष्ट्रीय टीम में चयन पर विचार किया जाएगा.

बुधवार को पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने सात वरिष्ठ खिलाड़ियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की है. इनमें से कुछ खिलाड़ियों पर पाबंदी लगी है, कुछ पर जुर्माना लगा है और कुछ को कड़ी चेतावनी दी गई है.

ये खिलाड़ी हैं- मोहम्मद यूसुफ़, यूनिस ख़ान, शोएब मलिक, राणा नवेद उल हसन, कामरान अकमल, उमर अकमल और शाहिद अफ़रीदी.

संबंधित समाचार