वेस्टइंडीज़ ने आयरलैंड को रौंदा

स्टरलिंग के आउट होने पर ख़ुशी मनाते वेस्टइंडीज़ खिलाड़ी

वेस्टइंडीज़ में चल रहे तीसरे ट्वेन्टी-20 विश्व कप के दूसरे मैच में वेस्टइंडीज़ ने आयरलैंड को 70 रनों से रौंद दिया है.

जहाँ वेस्टइंडीज़ ने नौ विकेट खोकर 138 रन बनाए वहीं आयरलैंड की टीम 16.4 ओवर में 68 रन बनाकर ऑल आउट हो गई.

वेस्टइंडीज़ ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया.

वेस्टइंडीज़ की पारी

फ़्लेचर और चंद्रपॉल ने शुरुआत की लेकिन तीसरे ओवर में चंद्रपॉल 14 रन बनाकर रैंकिन की गेद पर विलसन को कैच थमा बैठे और वेस्टइंडीज़ का पहला विकेट 19 रनों के स्कोर पर गिरा.

ब्रावो ने दो छक्के लगाकर स्कोर को कुछ गति प्रदान की लेकिन छठे ओवर में 18 के व्यक्तिगत स्कोर पर उन्हें कुसैक ने अपनी ही गेंद पर आउट किया जब टीम का स्कोर 43 रन था.

दूसरा विकेट गिरने के बाद विकेट पर आए सरवन ने टिककर खेलना शुरु किया लेकिन फ़्लेचर 12वें ओवर में 19 के व्यक्तिगत स्कोर पर डॉकरेल की गेंद पर केजे ओब्रायन को कैच दे बैठे. इस तरह वेस्टइंडीज़ का तीसरा विकेट 77 रनों पर गिरा.

इसके बाद सरवन भी टिक नहीं पाए और टीम के 77 रनों के ही स्कोर पर डॉकरेल की ही गेंद पर उनका कैच विलसन ने लपका. सरवन ने 24 रन बनाए और वेस्टइंडीज़ का स्कोर चार विकेट के नुकसान पर 77 रन हो गया.

रामदीन ने एक रन बनाया था जब उनको रैंकिन की गेंद पर एनजे ओब्रायन ने कैच किया. वेस्टइंडीज़ का पाँचवां विकेट 83 रनों पर गिरा.

इसके बाद 16वें ओवर में डियोनेराइन को दस रनों के व्यक्तिगत स्कोर पर डॉकरेल की गेंद पर एनजे ओब्रायन ने ही कैच किया जब टीम का स्कोर 93 रन हुआ था.

लेकिन सैमी डटकर खेले और दो छक्के और दो चौके लगाते हुए उन्होंने 17 गेंदों में 30 रन बनाए.

उनका साथ दिया पोलॉर्ड ने जिन्होंने चाहे आठ रन बनाए लेकिन विकेट पर बने रहे. उन्होंने आठ रन बनाए और उन्हें अपनी ही गेंद पर बोथा ने कैच आउट किया जब टीम का स्कोर 19वें ओवर की शुरुआत में 125 रनों तक पहुँच गया था.

इसके बाद 19वें ओवर में ही सैमी 30 रन बनाकर बोथा की गेंद पर पोर्टरफ़ील्ड को कैच दे बैठे जब वेस्टइंडीज़ का स्कोर 127 पर तक पहुँच गया था.

रामपॉल ने आठ रन बनाए और कुसैक की गेंद पर उन्हें बोथा ने कैच किया. जब बीस ओवर में वेस्टइंडीज़ का नवाँ विकेट गिरे तब टीम ने विशाल 138 रनों का स्कोर खड़ा कर लिया था. मिलर दो रन बनाकर नाबाद रहे.

आयरलैंड की पारी लड़खड़ाई

आयरलैंड के लिए शुरुआत पोर्टरफ़ील्ड और स्टरलिंग ने की लेकिन शुरु से ही आयरलैंड को झटके लगने लगे.

पोर्टरफ़ील्ड चार रन बनाकर रूश की गेंद पर सैमी को कैच दे बैठे जबकि स्टरलिंग शून्य पर ही रामपॉल की गेंद पर सैमी के ही हाथों लपके गए.

इस तरह दूसरे ही ओवर में आयरलैंड का स्कोर दो विकेट पर सात रन हो गया था. दूसरे ही ओवर में एनजे ओब्रायन को छह के स्कोर पर रामपॉल ने रामदीन के हाथों कैच आउट कराया. इस तरह टीम के 11 के स्कोर पर तीसरा विकेट गिरा.

अगला विकेट गिरा कुसैक का जिन्होंने दो रन बनाए थे. उनका कैच रामपॉल की गेंद पर सैमी ने लपका.

दूसरी ओर विलसन ने विकट पर कुछ टिककर प्रदर्शन किया और 34 गेंदों में 17 रन बनाए.

लेकिन केजे ओब्रायन को नौ रनों के स्कोर पर सैमी की गेंद पर फ़्लैचर ने कैच किया जब टीम का स्कोर नवें ओवर की शुरुआत में 39 रनों तक पहुँचा था.

इसके बाद छठा विकेट विलसन का गिरा जब टीम का स्कोर 13वें ओवर की शुरुआत में 55 रनों तक पहुँचा था. उन्हें ब्रावो की गेंद पर सैमी ने कैच किया.

जॉनस्टन को मात्र पाँच रनों के व्यक्तिगत स्कोर पर ब्रावो ने बोल्ड आउट किया जब टीम का स्कोर 56 हुआ था.

मूनी मात्र एक रन, रैंकिन भी केवल एक रन और डॉकरैल शून्य पर आउट हुए. बोथा चार रन बनाकर नाबाद रहे.

इस तरह आयरलैंड की पूरी पारी 68 रनों पर सिमट गई.

वेस्टइंडीज़ के लिए रामपॉल ने तीन, ब्रावो ने दो, सैमी ने तीन, रूश और मिलर ने एक-एक विकेट लिया.

संबंधित समाचार