मुश्किल था इटली को रोकना

1982 विश्व कप

1982 में स्पेन में हुए विश्व कप का स्वरूप कुछ बदला हुआ था. इस बार 24 टीमों को विश्व कप में खेलने का मौक़ा मिला. दूसरे ग्रुप स्टेज को दोबारा शामिल किया गया और यह भी तय हुआ कि सेमी फ़ाइनल मैच भी खेले जाएँगे.

अब चार-चार टीमों को छह ग्रुपों में शामिल किया गया. ग्रुप स्टेज़ के एक मैच में हंगरी ने अल सल्वाडोर को 10-1 से मात दी, तो अल्जीरिया ने पश्चिमी जर्मनी को 2-1 से हराकर सनसनी फैलाई.

स्कॉटलैंड की टीम ब्राज़ील से 4-1 से हार गई. सोवियत संघ से 2-2 की बराबरी के साथ ही स्कॉटलैंड की टीम प्रतियोगिता से बाहर हो गई.

इंग्लैंड ने शुरुआत तो अच्छी की. फ़्रांस को उसने 3-1 से हराया. इंग्लैंड ने चेकोस्लोवाकिया और ट्यूनीशिया को भी हराया. लेकिन दूसरे दौर में पश्चिम जर्मनी और स्पेन से हारकर इंग्लैंड की टीम ख़ाली हाथ स्वदेश लौटी.

डिएगो माराडोना के साथ उतरी अर्जेंटीना की टीम अपना पहला मैच बेल्जियम से हार गई लेकिन दूसरे दौर में जगह बनाने में सफल रही.

लेकिन दूसरे दौर में उसका मुक़ाबला ब्राज़ील और इटली जैसी टीमों से था. ब्राज़ील ने 1970 के बाद अपनी बेहतरीन टीम उतारी. ज़ीको, सोक्रेटिस, एडर और फ़ाल्काओ जैसे खिलाड़ियों से सजी थी ब्राज़ील की टीम.

क़ीमत

लेकिन कारेका घायल होने के कारण खेल नहीं पाए और ब्राज़ील को इसकी क़ीमत चुकानी पड़ी.

Image caption ख़िताब हासिल करने की ख़ुशी

अर्जेंटीना की टीम दूसरे दौर में फ़्लॉप साबित हुई. इटली की टीम ने उसे मात दी और ब्राज़ील के हाथों भी उसे 3-1 से पराजित होना पड़ा.

इस मैच में ब्राज़ील के बटिस्टा को फ़ाउल करने के कारण माराडोना को मैदान से बाहर कर दिया गया. लेकिन ब्राज़ील का रास्ता आसान नहीं था. ख़िताब की दावेदार मानी जाने वाली ब्राज़ील की टीम इटली के हाथों हारकर बाहर हो गई.

पहले सेमी फ़ाइनल में इटली का मुक़ाबला था पोलैंड से. इटली ने पोलैंड को मात देकर 12 सालों में पहली बार विश्व कप के फ़ाइनल में जगह बनाई.

फ़्रांस और पश्चिमी जर्मनी के बीच दूसरा सेमी फ़ाइनल दो शक्तिशाली देश के बीच ज़बरदस्त जंग थी. आख़िरकार पश्चिम जर्मनी ने फ़्रांस को 5-4 से हराकर फ़ाइनल में प्रवेश किया.

फ़ाइनल में इटली की टीम को रोकना मुश्किल लग रहा था और हुआ भी यही. 3-1 से फ़ाइनल मैच जीतकर इटली ने विश्व कप का ख़िताब जीत लिया.

संबंधित समाचार