रोनाल्डो और ब्राज़ील की जीत

रोनाल्डो

वर्ष 2002 का विश्व कप की मेज़बानी दक्षिण कोरिया और जापान को संयुक्त रूप से मिली. पहली बार ऐसा हुआ कि दो देशों ने मिल कर विश्व कप की मेज़बानी की.

इस कारण ऐसा पहली बार हुआ कि तीन देशों चैम्पियन फ़्रांस और मेज़बान देश दक्षिण कोरिया के साथ-साथ जापान को विश्व कप में सीधे प्रवेश मिला.

पिछले विश्व कप की ख़राब यादों को भूलते हुए ब्राज़ील के स्टार स्ट्राइकर रोनाल्डो ने फ़ाइनल में अपने पैर का जादू दिखाया और जर्मनी की टीम को पछाड़ते हुए अपने देश को विश्व कप का ख़िताब दिलवाया.

रोनाल्डो ने फ़ाइनल के दो गोल मारे. रोनाल्डो ने इस विश्व कप में आठ गोल मारे और प्लेयर ऑफ़ द टूर्नामेंट का ख़िताब भी पाया. लेकिन इस दौड़ में उनके साथी खिलाड़ी रिवाल्डो ने भी उन्हें अच्छी चुनौती दी.

फ़्रांस की ख़स्ता हालत

1970 के बाद ब्राज़ील ऐसी टीम बनी, जिसने विश्व कप में अपने सभी मैच जीते. 1970 में भी ब्राज़ील ने ही यह कारनामा दिखाया था.

इससे पहले उरुग्वे ने 1930 में और इटली ने 1938 में यह सफलता हासिल की थी. वैसे इस विश्व कप की शुरुआत धमाकेदार अंदाज़ में हुई जब सेनेगल ने चैम्पियन फ़्रांस को हराकर सनसनी फैला दी.

फ़्रांस की शुरुआती ऐसी ख़राब हुई कि डेनमार्क ने 3-0 से हराकर उसे प्रतियोगिता से ही बाहर कर दिया. पहले दौर से अर्जेंटीना भी बाहर हो गया, लेकिन उसका ग्रुप काफ़ी कठिन था.

उस ग्रुप को ग्रुप ऑफ़ डेथ का भी नाम दिया गया था. क्योंकि इस ग्रुप में इंग्लैंड, स्वीडन, अर्जेंटीना और नाइजीरिया की टीमें शामिल थी. दूसरे दौर में पहुँचने का मौक़ा मिला स्वीडन और इंग्लैंड को.

मेज़बान जापान और दक्षिण कोरिया की टीमें भी दूसरे दौर में पहुँचने में क़ामयाब हुईं.

क्वार्टर फ़ाइनल में पहुँचने का सौभाग्य मिला ब्राज़ील, सेनेगल, इंग्लैंड, तुर्की, स्पेन, दक्षिण कोरिया, जर्मनी और अमरीका की टीमें. क्वार्टर फ़ाइनल में ब्राज़ील ने इंग्लैंड को 2-1 से हराया तो तुर्की ने सेनेगल को हराकर बाहर किया.

दक्षिण कोरिया ने पेनल्टी शूट आउट में स्पेन को चलता किया तो जर्मनी सिर्फ़ एक गोल के अंतर से ही अमरीका को हरा पाया.

सेमीफ़ाइनल में ब्राज़ील ने तुर्की को हराया तो जर्मनी के हाथों दक्षिण कोरिया की हार हुई. फ़ाइनल में रोनाल्डो के बेहतरीन खेल की बदौलत ब्राज़ील ने जर्मनी को हराकर पाँचवीं बार ख़िताब जीता.

संबंधित समाचार