टीम के लिए भोजन, शराब और सेक्स बंद

माकुंगा
Image caption सियाबुलेला माकुंगा उपवास के अलावा शराब और सेक्स से भी दूर रहे हैं.

क़रीब दर्जन भर दक्षिण अफ़्रीकी फ़ुटबॉल फ़ैन इस उम्मीद में उपवास कर रहे हैं कि इससे उनकी टीम को विश्व कप में फ़ायदा होगा.

गत सप्ताह ‘साउथ अफ़्रीकन फ़ुटबॉल सपोर्टर्स एसोसिएशन’ यानि साफ़सा ने समर्थकों से अपनी टीम के लिए प्रार्थना करने और उपवास रखने को कहा था.

एसोसिएशन के प्रमुख ने बीबीसी को बताया, “कामयाबी तभी मिल सकती है जब सारा देश एक साथ टीम के लिए प्रार्थना करे.”

इस विश्व कप में दक्षिण अफ़्रीका अपना पहला मैच मैक्सिको के ख़िलाफ़ शुक्रवार को खेलेगा.

सेक्स भी नहीं

साफ़सा के कार्यकारी निदेशक सियाबुलेला माकुंगा ने बीबीसी को बताया कि वो उपवास के अलावा अपनी टीम के लिए कुछ और भी क़ुर्बानियां दे रहे हैं.

माकुंगा ने कहा, “मैं शराब नहीं पी रहा हूं. साथ ही सेक्स से भी दूर हूं. ये मज़ाक नहीं क्योंकि मैं अकसर बहुत शराब पिया करता हूं.”

माकुंगा आगे कहते हैं कि ये उनकी महिला मित्र के लिए काफ़ी मुश्किल है और उन दोनों के बीच आजकल रिश्ते भी ठीक नहीं चल रहे.

माकुंगा ने बीबीसी को बताया, “मैं उसे गाल पर भी नहीं चूम सकता क्योंकि मैंने टीम के लिए ऐसा नहीं करने का निर्णय लिया है.”

जॉय चाउके उन दर्जन भर प्रशंसकों में से हैं जो टीम के लिए उपवास कर रहे हैं.

चाउके कहतीं हैं कि उन्हें भूखे रहने में दिक्कत हो रही है लेकिन वो अगले पांच सप्ताह तक उपवास पर रहने की उम्मीद रखतीं हैं.

चाउके ने कहा, “ईसा मसीह ने 40 दिन तक उपवास रखा था और सब कुछ सही रहा था. मैं सिर्फ़ दक्षिण अफ़्रीका को जीतते देखना चाहती हूं उसके बाद सब कुछ खाउंगी.”

शुक्रवार को मैक्सिको के बाद दक्षिण अफ़्रीका की टीम उरुग्वे से 16 जून को भिड़ेगी और उसके छह दिन बाद ‘बफ़ाना बफ़ाना’ नाम से मशहूर ये टीम फ़्रांस के सामने होगी.

संबंधित समाचार