ब्राज़ील ने उत्तर कोरिया को हराया

काका
Image caption काका उत्तर कोरिया की रक्षा पंक्ति तोड़ने में नाकाम रहे

फ़ुटबॉल विश्व कप में मंगलवार को ब्राज़ील ने रोमांचक और उम्मीद से कठिन मुक़ाबले में उत्तर कोरिया को 2-1 से शिकस्त दी. इससे पहले खेले गए दोनों मुक़ाबले ड्रा रहे थे.

पहले मुक़ाबले में जहां आइवरी कोस्ट और पुर्तगाल के बीच मुक़ाबला गोल रहित बेनतीजा रहा वहीं न्यूज़ीलैंड और स्लोवाकिया का मैच एक-एक गोल के साथ ड्रा हुआ.

पहले दोनों मुक़ाबलों ने खेल प्रेमियों को काफ़ी निराश किया, क्योंकि इन दोनों मैचों में हार जीत का नतीजा नहीं निकल सका, हालांकि तीसरे और आख़िरी मैच में ब्राज़ील को जीत मिली, लेकिन इसके लिए उसे कड़ी मेहनत और लंबा इंतज़ार करना पड़ा.

ब्राज़ील की जीत

विश्व कप में मंगलवार को हुए तीसरे मुक़ाबले में ब्राज़ील ने उत्तर कोरिया को 2-1 से मात दी. उत्तर कोरिया ने मैच के आख़िरी समय में एक गोल किया.

ब्राज़ील पहले हाफ़ में गोल करने में नाकाम रहा, हालांकि उसने पहले पाफ़ में गोल करने के कई नज़दीकी मौके गंवाए.

ब्राज़ील की ओर से पहला गोल खेल के दूसरे हाफ़ में 55वें मिनट में मैकॉन ने किया जबकि दूसरा गोल 72वें मिनट में एलानो ने बहुत ही ख़ूबसूरती के साथ गेंद गोलपोस्ट में डाल दिया.

उत्तर कोरिया ने भी काफ़ी अच्छा प्रदर्शन किया, बल्कि उम्मीद से कहीं अधिक अच्छा.

ब्राज़ील के सामने उत्तर कोरिया के खेल का नमूना ये था कि उसके स्टार खिलाड़ी काका उत्तर कोरिया की रक्षा पंक्ति को तोड़ने में नाकाम रहे.

उत्तर कोरिया की तरफ़ से यूनन नाम जी ने 88वीं मिनट में एक बहुत ही शानदार गोल किया और इस तरह ब्राज़ील के गोल के अंतर को कम कर दिया.

पहला और दूसरा मैच

Image caption रोनाल्डो ने उम्मीदों पर पानी फेर दिया और कोई कमाल नहीं कर सके.

इससे पहले खेल गए मुक़ाबले में जहां न्यूज़ीलैंड और स्लोवाकिया एक-एक गोल करने में कामयाब रहे, वहीं दूसरा मुक़ाबला अच्छी मानी जानी वाली टीमों पुर्तगाल और आइवरी कोस्ट के बीच था, लेकिन मुक़ाबला बहुत ज़ोरदार नहीं हुआ.

पुर्तगाल की टीम से जो उम्मीदें थीं उसपर वो खरी नहीं उतरी और उन्होंने अपने प्रशंसकों का निराश किया.

रोनाल्डो ने खेल के शुरू होते ही आक्रामकता दिखाई और प्रतिद्वंदी टीम पर ज़बरदस्त प्रहार किया, लेकिन नाकामी ही हाथ लगी.

पूरे खेल के दौरान रोनाल्डो ने लक्ष्य पर निशाने साधे के कई प्रयास किए पर गोल करने में हर बार नाकामी हाथ लगी.

खेल के शुरुआती समय में पुर्तगाल की टीम हावी थी और उनका गेंद पर क़ब्ज़ा भी अधिक था, लेकिन जैसे जैसे खेल आगे बढ़ा आइवरी कोस्ट पुर्तगाल के प्रहारों को नाकाम करने में कामयाब रहा.

आइवरी कोस्ट के कोच ने आख़िरी समय में द्रोगबा को मैदान पर उतारा, लेकिन वो भी कोई कमाल नहीं कर सके.

संबंधित समाचार