ब्राज़ील ने उत्तर कोरिया को हराया

काका
Image caption काका उत्तर कोरिया की रक्षा पंक्ति तोड़ने में नाकाम रहे

फ़ुटबॉल विश्व कप में मंगलवार को ब्राज़ील ने रोमांचक और उम्मीद से कठिन मुक़ाबले में उत्तर कोरिया को 2-1 से शिकस्त दी. इससे पहले खेले गए दोनों मुक़ाबले ड्रा रहे थे.

पहले मुक़ाबले में जहां आइवरी कोस्ट और पुर्तगाल के बीच मुक़ाबला गोल रहित रहा वहीं न्यूज़ीलैंड और स्लोवाकिया का मैच एक-एक गोल के साथ ड्रा हुआ.

पाँच बार की विश्व चैम्पियन और दुनिया की नंबर वन टीम के सामने थी 105वीं रैंकिंग की टीम. लेकिन ख़िताब की प्रबल दावेदार ब्राज़ील की टीम को उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ गोल करने के लिए 55 मिनट तक इंतज़ार करना पड़ा.

ब्राज़ील की टीम ने शायद उत्तर कोरिया की टीम को जितने हल्के में लिया था, टीम वैसी नहीं निकली. इसलिए अपने डिफ़ेंस के दम पर उत्तर कोरिया ने ब्राज़ील की शक्तिशाली टीम को 55 मिनट तक गोल करने से वंचित रखा.

लेकिन 55 वें मिनट में मैकॉन का ख़ूबसूरत गोल ब्राज़ीलियन शैली के फ़ुटबॉल की झलक दे गया.

मैदान पर दम भी ब्राज़ील का ही दिखा और गेंद पर ज़्यादा समय तक उनका ही नियंत्रण भी रहा. 72वें मिनट में ब्राज़ील को एक और मौक़ा मिला, जब रॉबिन्हो के ख़ूबसूरत क्रॉस पर एलानो ने मुग्ध कर देने वाला गोल किया.

दो गोल करने के बाद ब्राज़ीलियाई खिलाड़ी थोड़े बेफ़िक्र से हो गए और उत्तर कोरिया के जी युन नैम ने गोल ठोंक कर उन्हें करारा जवाब दिया.

ब्राज़ील ये मैच 2-1 से जीतने में सफल रहा, लेकिन आगे चलकर उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ कम गोल अंतर उसे भारी भी पड़ सकता है.

पुर्तगाल-आइवरी कोस्ट

इससे पहले पुर्तगाल और आइवरी कोस्ट के बीच मैच में भी लोगों को बेहतरीन फ़ुटबॉल देखने को मिला. दो महारथी टीमें और दोनों का पहला मैच और दोनों टीम ऐसे ग्रुप का हिस्सा, जिसमें हार किसी को महंगी पड़ सकती है.

Image caption रोनाल्डो ने उम्मीदों पर पानी फेर दिया और कोई कमाल नहीं कर सके.

पोर्ट एलिज़ाबेथ में पुर्तगाल और आइवरी कोस्ट की टीमें मैच ड्रॉ करके राहत की साँस ले रही होंगी. लेकिन ऐसा नहीं है कि मैच के दौरान गोल करने का मौक़ा नहीं आया.

सबसे बेहतरीन मौक़ा मिला क्रिस्टियानो रोनाल्डो को मैच के 11 वें मिनट में. लेकिन गेंद गोल पोस्ट से टकरा गई.

इस मैच के सबसे शानदार क्षण उस समय आया जब पिछले दिनों घायल हुए आइवरी कोस्ट के अंतरराष्ट्रीय सितारे दिदिए द्रोगबा मैदान पर आए. 65 में मिनट में उनके मैदान पर आते ही सारा स्टेडियम तालियों से गूँज उठा.

हालाँकि ये भी सच है कि द्रोगबा काफ़ी संभल कर खेल रहे थे. मैच के आख़िरी क्षणों में आइवरी कोस्ट के खिलाड़ियों ने लगातार कई आक्रमण किए लेकिन गोल नहीं हो सका.

मैच के बाद आइवरी कोस्ट के मैनेजर स्वेन योरान इरिक्सन ने कहा,''मैच काफ़ी टक्कर वाला था, गोल करने के कम मौक़े थे. मैं सोचता हूँ कि अगर कोई टीम जीत की हक़दार थी, तो वो थी हमारी टीम थी. क्योंकि हमने गोल करने के लिए ज़्यादा अवसर बनाए.''

स्लोवाकिया-न्यूज़ीलैंड

स्लोवाकिया और न्यूज़ीलैंड के बीच को काफ़ी कम अहमियत दी जा रही है और जिन लोगों को कलात्मक और बेजोड़ शैली वाले फ़ुटबॉल की आदत है, उन्हें यह मैच देखकर ज़रूर निराशा होगी. क्योंकि दोनों ही टीमें बेतरतीब फ़ुटबॉल खेल रही थी. हाफ़ टाइम तक कोई भी टीम गोल नहीं कर पाई थी.

हाफ़ टाइम के बाद 50वें मिनट में स्लोवाकिया को पहले गोल करने का मौक़ा मिला.

स्लोवाकिया के रॉबर्ट विटेक ने अपने शानदार हेडर से गोल करके अपनी टीम को बढ़त दिला दी. इसके बाद न्यूज़ीलैंड की टीम गोल उतारने के लिए बेताब दिखी. इस क्रम में एक बार फिर लोगों को बेतरतीब फ़ुटबॉल देखने का अवसर मिला.

मैच ख़त्म होने से 30 सेकेंड पहले न्यूज़ीलैंड के विंस्टन रीड ने गोल उतार दिया.

तो इस तरह मैच ड्रॉ समाप्त हुआ. अब ग्रुप एफ़ में बड़ी रोचक स्थिति हो गई है. क्योंकि इटली, पराग्वे, न्यूज़ीलैंड और स्लोवाकिया सबको एक-एक अंक हैं.

संबंधित समाचार