सर्बिया ने जर्मनी को झटका दिया

जर्मन टीम के कोच जोआचिम लोएव

ऑस्ट्रेलिया को 4-0 से हराने के बाद जर्मनी की टीम को लगने लगा था कि कम से कम ग्रुप स्टेज में मैच जीतना उसके लिए कोई कठिन काम नहीं होगा. लेकिन शुक्रवार को पोर्ट एलिज़ाबेथ में खेले गए मैच में सर्बिया ने जर्मनी को 1-0 से हराकर सनसनी फैला दी है.

ज़ाहिर है, सर्बिया ऑस्ट्रेलिया के मुक़ाबले बेहतर टीम है लेकिन इस मैच में हार की कल्पना जर्मनी ने क़तई नहीं की होगी.

दिलचस्प बात ये भी है कि जर्मनी की टीम कम से आधे घंटे तक दस खिलाड़ियों के साथ खेली क्योंकि रेफ़री ने जर्मन सेंटर फॉर्वर्ड मिरोस्लाव क्लोज को दो पीले कार्ड दिखाए जाने के बाद मैदान से बाहर कर दिया.

जर्मनी 52 मिनट तक कोशिश करता रहा

सर्बिया के मिलान यानोविच ने खेल के 38वें मिनट में मैच का एकमात्र गोल किया, जर्मनी की टीम लाख कोशिशों के बावजूद अगले 52 मिनट के खेल में गोल नहीं कर पाई और 1-0 से हार गई.

ऐसा नहीं है कि जर्मनी को मौक़े नहीं मिले लेकिन उसके खिलाड़ियों ने सभी मौक़े गँवा दिए, जर्मनी के स्टार खिलाड़ी लुकास पोडोलस्की पेनल्टी को गोल में बदलने से चूक गए.

स्पेन के रेफ़री एल्बेरतो उदियानो के कई फ़ैसलों ने लोगों को चौंकाया जिनमें क्लोज को मैदान से बाहर करने का उनका फ़ैसला शामिल है.

जर्मनी और सर्बिया की टीमों के बीच बराबर की टक्कर थी, गेंद पर उनका नियंत्रण लगभग बराबर ही रहा. जर्मनी ने कई हमले किए लेकिन सर्बिया के रक्षा पंक्ति हमेशा मुस्तैद रही.

जर्मनी की इस पराजय के बाद ग्रुप-डी में स्थिति काफ़ी दिलचस्प हो गई है, जर्मनी, घाना और सर्बिया तीनों के तीन-तीन अंक हो गए हैं जबकि चार गोल से हारने वाली ऑस्ट्रेलिया की टीम सबसे नीचे है.

इसका मतलब ये है कि ग्रुप डी से कौन सी दो टीमें अगले राउंड में जाएँगी इसका फ़ैसला अगले मैचों में होगा और जर्मनी को घाना को हर हाल में हराना होगा.

संबंधित समाचार