साइना नेहवाल ब्रांड एंबेसेडर

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल
Image caption साइना को हाल में अच्छी सफलता मिली है

विश्व की नंबर दो और भारत की सबसे मशहूर बैडमिंटन खिलाडी साइना नेहवाल के लिए खेल के मैदान की सफलता अब कई नए दरवाज़े खोलने लगी है और ऐसा लगता है कि वो अब मॉडलिंग जगत में भी सबसे लोकप्रिय खिलाड़ी बनने जा रही हैं.

विश्व बैडमिंटन फेडरेशन की रैंकिंग में दूसरा स्थान मिलने के एक दिन बाद शुक्रवार को साइना नेहवाल ने एक अमरिकी कंपनी हर्बलाइफ़ के ब्रांड एंबेसेडर के रूप में एक समझौता किया है.

हालाँकि साइना और इस कंपनी दोनों ही ने यह बताने से इनकार किया है कि एक वर्ष के इस समझौते के लिए साइना को कितना पैसा मिलेगा लेकिन सूत्रों के अनुसार यह सौदा 30 लाख से लेकर पचास लाख रुपए के बीच है.

हर्बलाइफ़ कम्पनी खिलाडियों के लिए पौष्टिक आहार और शरबत और कई अन्य चीज़ें बेचती है और इस कंपनी ने गत वर्ष भी साइना के साथ ऐसा ही एक समझौता किया था. यह तो केवल शुरुआत है. ऐसा लगता है कि जल्द ही साइना, इश्तिहारों और ब्रांड इंडोर्समेंट के मैदान में एक महंगी स्टार के रूप में उभरेंगी.

सूत्रों के अनुसार इस समय क़रीब 12 बड़ी कम्पनियाँ साइना को लेना चाहती हैं, इनमें कुछ बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ भी शामिल हैं. साइना ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि लोग उन्हें आगे कई भूमिकाओं में देखेंगे और वो कई वस्तुओं के लिए ब्रांड इंडोर्समेंट करेंगी. लेकिन उन्होंने इसका ज़्यादा ब्यौरा नहीं दिया और कहा कि इसका प्रबंधन उनकी मैनेजमेंट कंपनी डेक्कन चार्जर्स स्पोर्टिंग वेंचर्स कर रही है.

अब तक साइना केवल दो तीन कम्पनियों से ही जुडी हुई थीं. साइना ने कहा कि उन्हें जहाँ उनकी बढ़ती हुई मांग पर ख़ुशी है वहीं वो यह बात कभी नहीं भूलेंगी कि यह सब उनके खेल की वजह से हो रहा है और वो अपने खेल को बेहतर बनाने के लिए और भी कड़ी मेहनत करेंगी क्योंकि विश्व की नंबर दो खिलाडी बनने के बाद उन्हें कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा. यह पूछने पर कि वो किस तरह की चीज़ों की ब्रांड एंबेसेडर बनेंगी, साइना ने कहा कि वो चीज़ें एक खिलाड़ी के रूप में उनके व्यक्तित्व के अनुकूल होनी चाहिए और वो वही चीज़ें चुनेंगी जिन का वो ख़ुद इस्तेमाल करती हों.

उन्होंने कहा कि वो ख़ुद हर्बलाइफ़ के पौष्टिक ड्रिंक्स का उपयोग करती हैं. उन्होंने इस संभावना को रद्द कर दिया कि मॉडलिंग करने से उनका ध्यान खेल से हट जाएगा, "मुझे दोनों चीज़ें साथ-साथ चलाने की आदत डालनी होगी क्योंकि इंडोर्समेंट के साथ-साथ भी मैं अपने खेल को परवान चढ़ा सकती हूँ". साइना हाल ही में फैशन मॉडल की तरह दुल्हन के लिबास में रैम्प पर भी नज़र आई थीं जिसके बाद उन्हें फैशन मॉडलिंग के कई ऑफर मिले लेकिन साइना ने कहा कि उन्होंने केवल मनोरंजन के लिए एक बार यह काम किया था और उसे बार-बार नहीं करेंगी क्योंकि वो कोई फ़िल्म अभिनेत्री नहीं हैं.

उन्होंने फ़िल्मों में काम करने की संभावना को भी रद्द कर दिया और कहा कि वो एक अलग व्यवसाय है. हर्बलाइफ़ के भारत प्रमुख अजय खन्ना ने कहा कि उनकी कंपनी साइना के साथ अपने रिश्ते को आगे भी जारी रखेगी और उसे ज़्यादा मज़बूत किया जाएगा क्योंकि साइना युवाओं में बहुत लोकप्रिय हैं.

उन्होंने कहा, "साइना भारत में हमारे पचास हज़ार वितरकों का हौसला बढ़ाएंगी."

अपने खेल के विषय में साइना ने कहा कि अब उनका पूरा ध्यान विश्व मुक़ाबलों पर लगा हुआ है जो अगस्त में पेरिस में होने वाले हैं और वो उसी की तैयारियों में लगी हुई हैं. जानकारों का कहना है कि इस समय साइना एक ब्रांड के लिए 30 लाख रुपये की मांग कर सकती हैं लेकिन अगर वो विश्व की नंबर एक खिलाडी बन जाती हैं तो उनकी ब्रांड क़ीमत एक करोड़ तक रुपए तक पहुँच जाएगी और वो भारत में इतिहास की सब से महंगी बेडमिंटन खिलाडी बन जाएँगी. भारत के क्रिकेट कप्तान महिंदर सिंह धोनी ने हाल ही में दो अरब 10 करोड़ रुपए के जिस सौदे पर हस्ताक्षर किए थे उसके बारे में पूछे जाने पर साइना ने कहा कि क्रिकेट की तुलना बैडमिंटन से नहीं की जा सकती क्योंकि देश में क्रिकेट ही सबसे बड़ा खेल है. उन्होंने कहा कि वो धोनी की उपलब्धि से बहुत ख़ुश हैं और जो कुछ ख़ुद को मिल रहा है उससे भी वो बहुत संतुष्ट हैं. साइना से पहले हैदराबाद में टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्ज़ा मॉडलिंग की दुनिया में छा गई थीं और उन्होंने करोड़ों रुपए कमाए.

जानकारों का कहना है कि साइना के लिए उस स्तर पर पहुँचना आसान नहीं होगा क्योंकि भारत में टेनिस ज़्यादा लोकप्रिय है और ग्लैमर में सानिया मिर्ज़ा आगे थीं लेकिन पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ी शोएब मालिक से विवाह करने के बाद सानिया मिर्ज़ा की मांग कम हो गई है और खेल के मैदान में भी उनका प्रदर्शन निराशाजनक रहा है. वैसे साइना को हाल की सफलता के बाद से और भी बहुत कुछ मिला है. आंध्र प्रदेश सरकार ने उन्हें पचीस लाख रुपये का इनाम दिया है.

हरियाणा सरकार ने भी नक़द ईनाम के अलावा साइना को पुलिस में उपाधीक्षक का पद देने की पेशकश भी की थी लेकिन साइना ने उसका धन्यवाद देते हुए कहा कि वो गत सात वर्षों से भारत पैट्रोलियम कंपनी के साथ जुड़ी हैं और गत दो वर्षों से वहाँ नौकरी भी कर रही हैं इसलिए वो उसका साथ नहीं छोड़ सकतीं.

संबंधित समाचार