हॉकी कोच ने इस्तीफ़ा दिया

हॉकी

भारतीय महिला हॉकी टीम के कोच एमके कौशिक के ख़िलाफ़ यौन शोषण के आरोप लगने के बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

एक खिलाड़ी ने कौशिक के विरुद्ध ये आरोप लगाए और 30 अन्य ने उस पत्र पर उस खिलाड़ी के समर्थन में हस्ताक्षर किए हैं.

हॉकी इंडिया ने मामले की सुनवाई के लिए चार सदस्यों की एक समिति गठित की जिसमें पूर्व खिलाड़ियों ज़फ़र इक़बाल और अजित पाल सिंह के अलावा सुदर्शन पाठक और राजीव मेहता शामिल हैं.

एमके कौशिक ने कहा है कि उनका पद पर बने रहना अब संभव नहीं. उनका कहना है, "जो बात हमें स्पष्ट करनी थी वो हमने समिति के सामने स्पष्ट कर दी है. मुझे विश्वास है कि निर्णय मेरे ही पक्ष में होगा. मगर इन परिस्थितियों में मैं टीम का कोच बने रहना नहीं चाहूँगा. इसमें हार मानने की कोई बात नहीं है मगर ये मेरी नैतिकता का सवाल है."

मामला तब सामने आया जब भारतीय महिला हॉकी टीम के वीडियोग्राफ़र बासवराज की कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें मीडिया में आईं. इसमें उन्हें चीन दौरे पर अपने कमरे में कॉल गर्ल के साथ दिखाया गया था.

इसके बाद बासवराज को तुरंत प्रभाव से बर्ख़ास्त कर दिया गया. मगर मामले ने अलग रंग तब ले लिया जब टीम के कोच एम के कौशिक के विरुद्ध यौन शोषण का आरोप लग गया.

टीम के लिए झटका

चार सदस्यों की समिति में सुनवाई के बाद हॉकी इंडिया के महासचिव एनके बत्रा ने बताया है कि सभी पक्षों को गुरुवार तक समिति के सामने अपनी बात रखनी है जिसके बाद समिति परसों अपनी रिपोर्ट हॉकी इंडिया को देगी.

मगर जाँच समिति के एक सदस्य ज़फ़र इक़बाल ने कोच के ख़िलाफ़ मामलों को ज़्यादा गंभीर नहीं बताया.

उन्होंने कहा, "हमने दोनों पक्षों को सुना है. राष्ट्रीय कोच महिला हॉकी टीम के साथ 1991 के साथ जुड़े हैं और वो हम लोगों के साथ भी जुड़े रहे हैं. हमने इससे पहले उनके विरुद्ध ऐसी कोई बात कभी नहीं सुनी. शिकायतकर्ता ने जो बातें कही हैं वो काफ़ी ख़तरनाक हैं. जब सभी पक्षों की बातें हमारे सामने आ जाएँगी तब असल बात पता चलेगी. इसलिए हम अभी अंतिम नतीजे पर नहीं पहुँचे हैं मगर आरोप बहुत मज़बूत नहीं दिखते."

भारतीय टीम को अगले ही महीने हॉकी विश्व कप में हिस्सा लेने अर्जेंटीना जाना है, इसके अलावा दिल्ली में ही टीम को राष्ट्रमंडल खेलों में हिस्सा लेना होगा और फिर चीन में एशियाई खेल होने हैं.

भारतीय महिला हॉकी टीम गुरुवार को ही एशियाई चैंपियंस ट्रॉफ़ी के लिए दक्षिण कोरिया में बुसान के लिए रवाना हुई है.

इस अहम मौक़े पर टीम के कोच पर ऐसे आरोप और उनका पद से हटना टीम के लिए काफ़ी बड़े झटके माने जा रहे हैं.

संबंधित समाचार