रांदिव की माफ़ी, जांच भी होगी

वीरेंदर सहवाग
Image caption रांदिव की नो-बॉल की वजह से सहवाग का शतक पूरा नहीं हुआ

कोलंबो में खेली जा रही त्रिकोणीय श्रृंखला में सोमवार को वीरेंदर सहवाग का शतक पूरा नहीं हो पाने के विवाद पर अब गेंदबाज़ सूरज रांदिव ने सहवाग से माफ़ी मांग ली है.

श्रीलंका के ख़िलाफ़ इस मैच में वीरेंदर सहवाग 99 रन पर खेल रहे थे. भारत को जीत के लिए एक रन चाहिए था और सहवाग को शतक के लिए सिर्फ़ एक की ज़रूरत थी.

लेकिन गेंदबाज़ रांदिव ने एक दिवसीय मैचों के अपने करियर की पहली नो-बॉल डालकर सहवाग को शतक से महरुम कर दिया.

उसके बाद ये बात उठी की सूरज रांदिव ने जानबूझ कर नो-बॉल फेंकी ताकि सहवाग अपना शतक पूरा ना कर पाएं.

मंगलवार को वीरेंदर सहवाग ने ट्विटर वेबसाइट पर अपने अकाउंट में लिखा, “रांदिव मेरे कमरे में आए और माफ़ी मांगी.”

जांच

उधर 'श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड' ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा है वे उन ख़बरों से दुखी हैं जिनमें वीरेंदर सहवाग को जानबूझ कर शतक पूरा नहीं करने देने की बात कही जा रही है.

विज्ञप्ति में कहा गया है कि राष्ट्रीय टीम के मैनेजर अनुरा टेनेकून इस घटना की आंतरिक जांच करेंगे.

विज्ञप्ति में आगे कहा गया है कि श्रीलंका पिछले दो सालों से आईसीसी 'स्प्रिट ऑफ़ द गेम' पुरस्कार का विजेता है और वे अपनी टीम के मैदान पर और उसके बाद बाहर होने वाले व्यवहार और उपलब्धियों पर गर्व करते हैं.

संबंधित समाचार