रांदिव और दिलशान को मिली सज़ा

वीरेंदर सहवाग
Image caption रांदिव ने सहवाग से माफ़ी माँग ली है

श्रीलंका में जारी त्रिकोणीय क्रिकेट सिरीज़ में सोमवार को खेले गए मैच में ग़लत तरीक़े से वीरेंदर सहवाग को शतक बनाने से रोकने की कोशिश के मामले में श्रीलंका के क्रिकेट अधिकारियों ने सूरज रांदिव और टीएम दिलशान के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की है.

श्रीलंका क्रिकेट की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि रांदिव और दिलशान को 16 अगस्त का मैच खेलने के लिए मिलने वाली रक़म नहीं दी जाएगी.

इसके अलावा रांदिव को न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ होने वाले अगले मैच से निलंबित कर दिया गया है.

श्रीलंका क्रिकेट ने कप्तान संगकारा को भी चेतावनी दी है कि इस तरह की घटना दोबारा न हो.

श्रीलंका के ख़िलाफ़ दांबुला में खेले जा रहे मैच में वीरेंदर सहवाग 99 रन पर खेल रहे थे. भारत को जीत के लिए एक रन चाहिए था, ऐसी स्थिति में गेंदबाज़ सूरज रांदिव ने जानबूझकर नो बॉल फेंकी जिससे सहवाग शतक बनाने से वंचित रह गए क्योंकि भारत की जीत के साथ मैच ख़त्म हो गया.

इसके बाद सूरज रांदिव की काफ़ी आलोचना हुई और उन्होंने वीरेंदर सहवाग से अपनी ग़लती के लिए माफ़ी माँग ली.

मंगलवार को वीरेंदर सहवाग ने ट्विटर वेबसाइट पर अपने अकाउंट में लिखा, “रांदिव मेरे कमरे में आए और माफ़ी मांगी.”

श्रीलंका क्रिकेट की विज्ञप्ति में लिखा है, "श्रीलंका को अपनी क्रिकेट टीम और उसकी उपलब्धियों पर गर्व है, हम क्रिकेट के खेल में अनुशासन को बनाए रखने को बहुत गंभीरता से लेते हैं, ख़ास तौर पर जबकि हमारी टीम को आईसीसी स्पिरिट ऑफ़ द गेम का अवार्ड लगातार दो बार मिल चुका है, यही वजह है कि सूरज रांदिव और टीएम दिलशान के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की गई है."

कप्तान संगकारा को दी गई चेतावनी में कहा गया है कि "क्रिकेट की बदनामी करने वाली" ऐसी कोई घटना दोबारा नहीं हो यह सुनिश्चित करना कप्तान की ज़िम्मेदारी है.

संबंधित समाचार