पाकिस्तान-इंग्लैंड मैच की जांच

मैच में पाकिस्तानी खिलाड़ी
Image caption पाकिस्तानी खिलाड़ियों पर पहले भी फिक्सिंग के आरोप लगे हैं.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद शुक्रवार को इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच हुए एकदिवसीय मैच की जांच कर रही है क्योंकि इसमें भी फिक्सिंग के आसार सामने आए हैं.

आईसीसी ने एक बयान जारी कर कहा है कि एक अंग्रेजी अख़बार ने आईसीसीको इस बारे में सूचना दी थी और अब आईसीसी इसकी जांच कर रहा है.

आईसीसी के मुख्य कार्यकारी हारुन लोर्गाट का कहना था, '' एक सूत्र ने सन अख़बार को बताया कि इंग्लैंड और पाकिस्तान के मैच में एक समय पर एक निश्चित तरीके से रन बनेंगे और मैं कह सकता हूं कि ये लगभग सही बात रही.''

लोर्गाट का कहना था कि आईसीसी के लिए ज़रुरी था कि जांच की जाए लेकिन अभी हम ये नहीं कह सकते कि कुछ ग़लत हुआ है पूरी जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा.

आईसीसी का कहना है कि मैच फ़िक्सिंग पर उनकी नीति बिल्कुल साफ़ है और वो किसी तरह की ढील नहीं दे सकते. जो भी दोषी होगा उसके ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

इससे पहले सन अख़बार ने रिपोर्ट दी थी कि उनकी एक जांच में यह बात सामने आई है कि मैच के शुरु होने से पहले ही सट्टेबाज़ों को पाकिस्तान की पारी के बारे में पूरी जानकारी थी. इस जानकारी के बाद आईसीसी ने इसकी जांच शुरु की है.

हालांकि पाकिस्तानी क्रिकेट बोर्ड के प्रमुख एजाज़ बट ने एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में इन आरोपों से इंकार किया है.

यह नया मामला ऐसे समय में सामने आया है जब पाकिस्तानी टीम के तीन खिलाड़ियों को मैच फिक्सिंग और स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में टीम से निकाल दिया गया है.

इन तीनों खिलाड़ियों से जुड़ा हुआ स्टिंग भी सन से ही जुड़े न्यूज़ ऑफ द वर्ल्ड अख़बार ने किया था.

अख़बार की रिपोर्ट में कहा गया है कि आईसीसी की नई जांच शुक्रवार के मैच में पाकिस्तानी पारी में रन बनाने के संदिग्ध तरीकों और कुछ ओवरों पर होगी जो संदेह के घेरे में हैं.

रिपोर्ट के अनुसार सन के अंडरकवर रिपोर्टरों ने मैच शुरु होने से पहले ही आईसीसी के अधिकारियों को इस बात की जानकारी दे दी थी. रिपोर्टरों के अनुसार दुबई और भारत में बैठे सट्टेबाज़ों को पहले ही पता था कि मैच में क्या होने वाला है.

अख़बार के अनुसार सट्टेबाज़ों को यह बात साफ पता थी कि रन किस तरह से बनाए जाएंगे.

हालांकि पाँच मैचों की शृंखला का यह तीसरा मैच मैच पाकिस्तान ने 23 रन से जीता है. अख़बार का कहना है कि उनके पास दुबई के एक मैच फिक्सर और दिल्ली के एक सट्टेबाज़ के कॉल डिटेल्स भी हैं.

अख़बार का कहना है कि उन्होंने इस बारे में आईसीसी को सूचना दी जिसके बाद मीटिंगें हुई और आईसीसी ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों को आम चेतावनी जारी करने का फैसला किया लेकिन तब तक मैच शुरु हो चुका था.

अख़बार ने बताया है कि इस जांच के कई सबूत अभी उनके पास ही है लेकिन वो साफ़ तौर पर कह सकते हैं कि आईसीसी ने शुक्रवार के मैच में पाकिस्तान की पारी ख़त्म होने से पहले ही इसकी जांच शुरु कर दी थी.

संबंधित समाचार