जंग में नहीं जंग

Image caption समरेश सिर्फ स्टैंडर्ड पिस्टल के लिए क्वालिफाई कर पाए हैं.

दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों के ब्रैंड ऐंबसडर समरेश जंग का कहना है कि दिल्ली की शूटिंग रेंज उपलब्ध ना होने की वजह से वह इन खेलों में सिर्फ एक ही प्रतियोगिता में भाग ले पाएँगे.

मेलबर्न 2006 राष्ट्रमंडल खेलों में पाँच स्वर्ण पदक हासिल कर समरेश जंग सर्वश्रेष्ठ एथलीट रहे थे, पर इन खेलों के लिए समरेश सिर्फ स्टैडर्ड पिस्टल प्रतियोगिता के लिए ही भारतीय टीम का हिस्सा बन पाए हैं.

बीबीसी ने समरेश से पूछा कि क्या पिछले कई वर्षों कोच की कमी इसकी वजह रही. इसके जवाब में समरेश कहते है."मेरे पास कोच नहीं है कहीं ना कहीं वो भी एक वजह है, साथ ही दिल्ली की शूटिंग रेंज भी हमारे लिए उपलब्ध नहीं थी. तो कई तरह की परिस्थितियों का मेल है जो मैं सिर्फ एक ही प्रतियोगिता के लिए क्वालिफाई कर पाया"

समरेश नें कहा की जो टीम चुनी गई है वो बेहतर है और भारतीय निशानेबाज़ी टीम राष्ट्रमंडल खेलों में अच्छा प्रदर्शन करेगी. समरेश कहते हैं," घरेलू स्तर पर हमारे बीच में कड़ा मुक़ाबला है. नए निशानेबाज़ काफी अच्छे हैं जो बढ़िया खेल दिखा रहे हैं, तो उनको मौका मिला है."

राष्ट्रमंडल खेल शुरु होने में काफ़ी कम समय बचा है और समरेश इन खेलों के लिए पूरी तरह से तैयार हैं.

हालाँकि वो पिछले एक सप्ताह से वायरल बुख़ार से भी जूझ रहे हैं लेकिन उन्होंने कहा, "बुख़ार ही तो है. इससे तैयारियों पर कोई फ़र्क नहीं पड़ेगा."

समरेश अपनी तैयारियों और पदक पर दावे को दस में से दस अंक देते हैं. समरेश कहते है."मेरी तैयारी पूरी है बाक़ी देखना होगा की क्या होता है. "

घरेलू मैदान का फ़ायदा न मिल पाने की बात खिलाड़ी भी अब दबी ज़बान से स्वीकार कर रहें हैं.