झंडा मामले पर गंभीर पाक प्रधानमंत्री

पाकिस्तानी टीम
Image caption पाकिस्तानी टीम की ख़ूब वाहवाही हुई

दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों के उदघाटन समारोह में अपने देश का झंडा लेकर पाकिस्तानी टीम का नेतृत्व करने के मामले में हुए विवाद में नया मोड़ आ गया है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने इस घटना की जाँच के आदेश दिए हैं. दरअसल रविवार को उदघाटन समारोह के दौरान पहले यह तय था कि भारोत्तोलक शुजाउद्दीन मलिक को झंडा लेकर सबसे आगे चलना था.

लेकिन ऐन मौक़े पर पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख मोहम्मद अली शाह ने शुजाउद्दीन मलिक से झंडा लेकर ख़ुद ही टीम का नेतृत्व किया.

इस मामले पर भारोत्तोलन टीम ने प्रतियोगिता से हटने तक की धमकी दे डाली. लेकिन अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद मामला सुलझ गया.

लेकिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री गिलानी ने इस घटना को गंभीरता से लिया है.

बयान

उनके कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री ने खेल मंत्री एजाज़ जख़रानी से इस मामले की जाँच करने और उन्हें रिपोर्ट सौंपने को कहा है.

प्रधानमंत्री गिलानी ने कहा है कि दोषी पाए जाने पर अधिकारी या खिलाड़ी के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी.

पाकिस्तानी भारोत्तोलन टीम के कोच शेख़ रशीद ने पाकिस्तानी अख़बार द डॉन से बातचीत में कहा था कि पहले शुजाउद्दीन मलिक झंडा लेकर आगे चलने वाले थे.

लेकिन आख़िरी मौक़े पर मोहम्मद अली शाह ने कहा कि वे टीम का नेतृत्व करेंगे. अली शाह सिंध प्रांत के खेल मंत्री भी हैं.

हालाँकि मोहम्मद अली शाह ने पत्रकारों को बताया कि खेल मंत्री होने के नाते उन्होंने झंडा लेकर टीम का नेतृत्व करने का फ़ैसला किया था.

पाकिस्तानी ओलंपिक एसोसिएशन लेफ़्टिनेंट जनरल सैयद आरिफ़ हसन ने बीबीसी को बताया है कि थोड़ी ग़लतफ़हमी हो गई थी, जिसे अब सुलझा लिया गया है.

संबंधित समाचार