नतीजों को लेकर भ्रम, स्वर्ण पदक छिना

ओसायेमी ओलूडामोला (बीच में)
Image caption ओसायेमी ओलूडामोला (बीच में) को बाद में विजेता घोषित किया गया

राष्ट्रमंडल खेलों में 100 मीटर महिला दौड़ में स्वर्ण पदक विजेता को डिस्क्वालिफ़ाई किए जाने के बाद शुक्रवार को नए विजेताओं को पदक दिए गए हैं.

गुरुवार को हुई दौड़ में पहले ऑस्ट्रेलिया की सैरी पियरसन को स्वर्ण पदक विजेता घोषित किया गया. लेकिन जिस समय सैली अपना पदक लेने के लिए इंतज़ार कर रही थीं तब उन्हें बताया गया कि उन्हें डिसक्वालिफ़ाई कर दिया गया है.

दरअसल इंग्लैंड की टीम ने विरोध जताया था कि सैली ने फ़ाल्स स्टार्ट की है. इसके बाद सैली को डिसक्वालिफ़ाई कर दिया गया.

राष्ट्रमंडल खेल फ़ेडरेशन के अध्यक्ष माइक फ़ेनेल ने कहा है कि 100 मीटर दौड़ के विजेताओं को लेकर जो भ्रम की स्थिति रही वो सूचना के आदान-प्रदान से जुड़ी बड़ी ग़लती है.

अब नाइजीरिया की ओसायेमी ओलूडामोला को स्वर्ण पदक दिया गया है.

सैली को काफ़ी देर बाद पता कि उनको पदक नहीं दिया जाएगा.

बाद में पत्रकारों से बातचीत में भावुक सैली ने कहा, मैं कुछ भी सोच नहीं पा रही हूँ. मुझे नहीं पता कि मैं क्या महसूस कर रही हूँ. मैं बहुत ज़्यादा निराश हूँ.

राष्ट्रमंडल खेलों पर विशेष

Image caption सैली को चार घंटे बाद पदक न मिलने की सूचना मिली

जब फ़ेनेल से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, कई चीज़ें एक साथ होती हैं. नतीजे घोषित होते हैं, इसके बाद कुछ समय के भीतर बाकी लोग अपना विरोध दर्ज करा सकते हैं. किसी ने ये नहीं बताया कि 100 मीटर दौ़ड़ में विरोध दर्ज कराया गया है. एथलेटिक्स अधिकारियों की ओर से चूक हुई है.

ऑस्ट्रेलियाई धावक के साथ जो कुछ हुआ उसे लेकर फ़ेनेल नाख़ुश नज़र आए.

उनका कहना था, "अगर किसी ने विरोध दर्ज कराया है तो उस धावक के नतीजे को रोक देना चाहिए. हमें कई शिकायतें मिली हैं."

सैली को चार घंटे बाद बताया गया कि वे डिसक्वालिफ़ाई हो गई हैं.

विवाद तब शुरु हुआ जब इंग्लैंड की खिलाड़ी लॉरा टर्नर को फ़ाल्स स्टार्ट के लिए रेड कार्ड दिया गया जबकि शिकायत की गई थी कि स्टेडियम से आने वाले शोर से उन्हें दिक्कत हो रही है.

लेकिन इलेक्ट्रॉनिक टाइमिंग सिस्टम ने सैली पियरसन के ख़िलाफ़ भी फ़ाल्स स्टार्ट का सिग्नल दिया.

जिसके बाद चौथे नंबर पर रही इंग्लैंड की खिलाड़ी की तरफ़ से विरोध दर्ज कराया गया. ऑस्ट्रेलिया ने अपील की लेकिन वह मानी नहीं गई.

संबंधित समाचार