एथलेटिक्स में भारत का कमाल

कृष्णा पूनिया
Image caption भारत ने महिला डिस्कस थ्रो में तीनों यानि स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक जीते हैं.

राष्ट्रमंडल खेलों में सोमवार को भारत ने वो कर दिखाया जो पिछले 52 साल में नहीं हुआ था.

दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में भारत की कृष्णा पूनिया ने महिला वर्ग के डिस्कस थ्रो मुक़ाबले में स्वर्ण पदक जीता.

पूनिया के हाथ से निकला डिस्कस सबसे आगे यानी 61.51 मीटर दूर गिरा.

इससे पहले ट्रैक ऐंड फ़ील्ड इवेंट में भारत को कॉमनवेल्थ खेलों में स्वर्ण 1958 में मिल्खा सिंह ने दिलाया था.

सोमवार को नेहरू स्टेडियम में महिला डिस्कस थ्रो में स्वर्ण ही बल्कि रजत और कांस्य पदक भी भारत के नाम रहे.

महिला डिस्कस थ्रो में रजत पदक हरवंत कौर को और कांस्य पदक सीमा अंतिल को मिला.

निराशा

ट्रैक ऐंड फ़ील्ड इवेंट में तो भारत के लिए सोमवार यादगार दिन रहा लेकिन बॉक्सिंग में निराशा ही हाथ लगी.

सोमवार को भारतीय मुक्केबाज़ी के प्रशंसकों को सबसे अधिक निराशा हुई ओलंपिक कांस्य पदक विजेता विजेंदर की हार से.

विजेंदर को इंगलैंड के एंथनी ओगोवो ने सेमीफ़ाइनल में हराया.

विजेंदर के अलावा भारत के दिलबाग सिंह, अमनदीप सिंह और जय भगवान को भी सेमीफ़ाइनल में हार के बाद कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा है.

लेकिन भारत के लिए अच्छी ख़बर ये है कि बॉक्सिंग में ही परमजीत सम्होटा, मनोज कुमार और सुरनजॉय सिंह फ़ाइनल में पहुंच गए हैं.

संबंधित समाचार