इंग्लैंड को धूल चटाकर भारत फ़ाइनल में

भारतीय हॉकी

भारत ने पेनल्टी शूट आउट में इंग्लैंड को 5-4 से हराकर राष्ट्रमंडल खेलों के हॉकी मुक़ाबले के फ़ाइनल में जगह बनाई.

राष्ट्रमंडल खेलों में पहली बार भारतीय टीम फ़ाइनल में पहुँची है. ये राष्ट्रमंडल हॉकी में भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है.

इंग्लैंड के ख़िलाफ़ सेमी फ़ाइनल में निर्धारित समय तक स्कोर 3-3 से बराबर था.

पंद्रह मिनट के अतिरिक्त समय में भी स्कोर बराबर रहा. इसके बाद पेनल्टी शूट आउट में भारत ने इंग्लैंड को 5-4 से हारकर फ़ाइनल में जगह बना ली है.

भारत ने इस मैच में सरवनजीत सिंह के गोल की बदौलत इंग्लैंड पर 14वें मिनट में ही बढ़त ले ली थी. इसके बाद दोनों टीमों ने अच्छी हॉकी का प्रदर्शन किया.

पहला हाफ़ ख़त्म होने से कुछ पहले इंग्लैंड ने पेनल्टी कॉर्नर पर गोल करके स्कोर बराबर कर दिया. दूसरे हाफ़ में इंग्लैंड की टीम ने मज़बूत शुरुआत की.

बढ़त

इंग्लैंड ने एक के बाद एक दो गोल करके 3-1 से बढ़त हासिल कर ली. दोनों गोल उन्होंने पेनल्टी कॉर्नर पर किए.

लेकिन कुछ देर बाद भारतीय टीम एकाएक ज़बरदस्त फ़ॉर्म में आ गई और दो फ़ील्ड गोल करके उन्होंने स्कोर बराबर कर दिया.

अतिरिक्त समय में भारत का पलड़ा भारी रहा. भारतीय टीम के आक्रमणों से इंग्लिश टीम परेशान दिखी. लेकिन भारतीय खिलाड़ी गोल नहीं कर पाए.

पेनल्टी शूट आउट में भरत छेत्री ने इंग्लैंड के तीसरा पेनल्टी शॉट को बचाकर भारतीय कैंप में ख़ुशी की लहर दौड़ा दी. भारतीय खिलाड़ियों ने संयम से पाँचों पेनल्टी पर गोल करके मैच 5-4 से जीत लिया.

पेनल्टी पर भारत की ओर से गोल करने वाले खिलाड़ी थे- सरवनजीत सिंह, विक्रम पिल्लै, संदीप सिंह, अर्जुन हल्ला और शिवेंद्र सिंह.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.