एथलेटिक्स में एक और इतिहास

राष्ट्रमंडल खेलों के नौवें दिन भारत ने स्वर्ण पदक तो दो ही हासिल किए लेकिन अपने शानदार प्रदर्शन से सबका दिल जीत लिया.

दिन का पहला स्वर्ण भारत को निशानेबाज़ी में मिला. लेकिन सबसे शानदार सफलता भारतीय महिलाओं को एथलेटिक्स में मिली.

भारतीय महिलाओं ने 4 गुणा 400 मीटर रिले में स्वर्ण पदक हासिल करके सबको चकित कर दिया. तो दूसरी ओर हॉकी में भारतीय पुरुष टीम में इंग्लैंड को धूल चटाकर फ़ाइनल में जगह बनाई.

बैडमिंटन में साइना नेहवाल फ़ाइनल में पहुँचीं, तो ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा ने भी फ़ाइनल में जगह बनाई.

टेबल टेनिस में अचंता शरद कमल ने भी सेमी फ़ाइनल में जगह बना ली है. सौम्यदीप रॉय भी टेबल टेनिस एकल के सेमीफाइनल मे पहुंच गए हैं.

टेबल टेनिस में महिला डबल्स में पालोमी घटक और मोमा दास ने भी सेमीफाइनल में जगह बना ली है.

शानदार सफलता

लेकिन दिन की सबसे बड़ी सफलता मनजीत कौर, सिनी जोसफ़, अश्वनी अकुंजी और मनदीप कौर की चौकड़ी ने दिलाई.

Image caption रिले टीम ने स्वर्ण जीतकर इतिहास रचा

उन्होंने नाइजीरिया और इंगलैंड के धावकों को पछाड़ते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया. इसके अलावा भारतीय महिला और पुरुष धावकों ने 4 गुणा 100 मीटर रिले में कांस्य पदक हासिल किया.

ट्रिपल जंप में भारत के रंजीत माहेश्वरी ने कांस्य पदक हासिल किया.

निशानेबाज़ी में 10 मीटर एयर पिस्टल पेयर में अन्नूराज सिंह और हिना सिद्धू को मिला. जबकि 50 मीटर राइफ़ल प्रोन महिला एकल शूटिंग में तेजस्विनी सावंत ने रजत पदक जीता.

वहीं समरेश जंग और चंद्रशेखर की जोड़ी ने 25 मीटर स्ट्रैंडर्ड पिस्टल पेयर प्रतियोगिता में रजत पदक अपने नाम किया.

हॉकी में भारतीय टीम एक समय इंग्लैंड के हाथों 1-3 से पिछड़ रही थी. लेकिन टीम ने शानदार वापसी की और स्कोर बराबर किया. फिर पेनल्टी शूटआउट में इंग्लैंड को 5-4 से हराकर फ़ाइनल में जगह बनाई.

भारतीय टीम पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों के फ़ाइनल में पहुँची है. ये राष्ट्रमंडल खेलों में हॉकी टीम का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है.

संबंधित समाचार