रणजी में न्यूनतम स्कोर का रिकॉर्ड

दीपक चहार

भारत के प्रतिष्ठित घरेलू क्रिकेट प्रतियोगिता रणजी ट्रॉफ़ी में हैदराबाद की टीम ने एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया है, जिसे टीम कभी याद नहीं करना चाहेगी.

राजस्थान के ख़िलाफ़ मैच में हैदराबाद की टीम अपनी पहली पारी में सिर्फ़ 21 रन बनाकर आउट हो गई. रणजी ट्रॉफ़ी के इतिहास में कोई टीम इतने कम स्कोर पर आउट नहीं हुई है.

राजस्थान की ओर से अपनी पहला रणजी मैच खेल रहे 18 वर्षीय दीपक चहार ने सिर्फ़ 10 रन देकर आठ विकेट लिए.

इससे पहले इस प्रतियोगिता में न्यूनतम स्कोर का रिकॉर्ड दक्षिणी पंजाब के नाम था. ये रिकॉर्ड बना था वर्ष 1934-35 की पहली रणजी ट्रॉफ़ी प्रतियोगिता में.

रिकॉर्ड

इस मैच में दक्षिणी पंजाब की टीम उत्तरी भारत के ख़िलाफ़ मैच में 114 रनों का पीछा करती हुई सिर्फ़ 22 रन बनाकर आउट हो गई थी.

वैसे भारत में हुए किसी भी प्रथम श्रेणी मैच में 21 रन टीम का सबसे न्यूनतम स्कोर है और हैदराबाद ने अब इस रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है.

वर्ष 1915-16 में मोहम्मडन्स की टीम बांबे क्वाड्रैंग्यूलर के ख़िलाफ़ 21 रन बनाकर आउट हो गई थी.

जयुपर में हो रहे इस मैच में राजस्थान के कप्तान हृषिकेश कानितकर ने टॉस जीतकर पहले फ़ील्डिंग चुनी. लेकिन हैदराबाद की टीम सिर्फ़ 15.3 ओवर में 21 रन बनाकर आउट हो गई. और ऐसा सिर्फ़ 78 मिनट में हुआ.

सबसे ज़्यादा छह रन अक्षत रेड्डी ने बनाए. चार खिलाड़ी बिना कोई रन बनाए पवेलियन लौटे.

राजस्थान की ओर से तेज़ गेंदबाज़ दीपक चहार ने आठ विकेट लिए तो पंकज सिंह को दो विकेट मिले. चहार के पास एक बार तो हैट्रिक लेने का मौक़ा भी था, लेकिन वे ऐसा नहीं कर सके.

संबंधित समाचार