बीबीसी फन एंड गेम्स

Image caption चीन मे हुए एशियन गेम्स का समापन समारोह बडे ही रंगा-रंग तरीके से हुआ.

चीन में हुए एशियाई खेलों में भारत का प्रदर्शन एशीयाड में अब तक का सबसे बेहतर प्रदर्शन रहा है.

टेनिस के सिंगल्स मुकाबलों में स्वर्ण पदक जीत कर सोमदेव देववर्मन ने इतिहास रचा. साथ ही सोमदेव ने युगल मुकाबलों में भी स्वर्ण पदक लिया था. सोमदेव कहते हैं कि उन्हें अब तक यकीन नहीं हो रहा की वो ये मुकाबले जीत चुके हैं.

Image caption सोमदेव ने टेनिस के सिंगल्स मुकाबलों में स्वर्ण पदक जीता

सोमदेव कहते हैं जब उन्होंने स्वर्ण पदक जीता और उनके कानो में राष्ट्रगान की धुन पड़ी और तिरंगे को उन्होंने ऊपर जाते देखा तो वो भावुक हो गए और उनकी आंखें नम हो गयी. सोमदेव कहते हैं वो ऐसे भी थोड़े भावुक हैं.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

वैसे एशियाई खेलों में भारत को सबसे ज्यादा निराश किया पुरुषों की हाकी टीम ने. सब को उम्मीद थी की टीम गोल्ड जीतेगी.

लेकिन भारतीय दल को कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा. टीम के कप्तान राजपाल सिंह कहते हैं की स्वर्ण न जीत पाने का दुःख पूरी टीम को है, लेकिन साथ ही राजपाल उम्मीद जाता रहे हैं की वोह 2012 में होने वाले लन्दन ओलिम्पिक के लिए ज़रूर क्वालिफाय कर लेंगे.

कार्यक्रम में हो रही है बातचीत महिला मुक्केबाज़ मेरी कोम से भी. मेरी कोम भी एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक से चुक गयी. मेरी पहली बार 51 किलोग्राम वर्ग में खेल रही थी.

बीबीसी फन एंड गेम्स में हो रही है बात क्रिकेट की भी. भारतीय क्रिकेट टीम अब न्यूज़ीलैण्ड के साथ एक दिवसीय श्रृंखला खेल रही है. इस श्रृंखला के लिए भारतीय दल की अगवाई कर रहे हैं गौतम गंभीर.

संबंधित समाचार