नाटकीय रहा डरबन टेस्ट का दूसरा दिन

हरभजन सिंह

भारत और दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ डरबन टेस्ट का दूसरा दिन काफ़ी नाटकीय रहा. दूसरे दिन कुल 18 विकेट गिरे और पहली पारी के आधार पर भारत को 74 रनों की बढ़त भी मिल गई.

दूसरी पारी में भारत के चार विकेट भी गिरे लेकिन अब भी कहा नहीं जा सकता कि ऊँट किस करवट बैठेगा. दूसरे दिन के खेल की समाप्ति तक भारत ने अपनी दूसरी पारी में चार विकेट पर 92 रन बना लिए हैं.

इस तरह भारत की कुल बढ़त 166 रन की हो गई है, हालाँकि उसके चार टॉप खिलाड़ी पवेलियन लौट चुके हैं. वीरेंदर सहवाग 32, मुरली विजय नौ, राहुल द्रविड़ दो और सचिन तेंदुलकर छह रन बनाकर आउट हो चुके हैं.

वीवीएस लक्ष्मण 23 और चेतेश्वर पुजारा 10 रन पर नाबाद हैं.

इससे पहले भारत की पहली पारी के 205 रनों पर सिमट गई तो जवाब में दक्षिण अफ़्रीका की टीम 131 रन बनाकर ही आउट हो गई.

कड़ी टक्कर

डेल स्टेन की शानदार गेंदबाज़ी के कारण भारत की पहली पारी सिर्फ़ 205 रनों पर समेटने के बाद दक्षिण अफ़्रीकी कैंप में काफ़ी उत्साह था. स्टेन ने छह विकेट चटकाए, तो लक्ष्मण के नाम 38 रनों का सर्वाधिक स्कोर रहा.

Image caption दूसरी पारी में भारत की स्थिति कोई अच्छी नहीं

लेकिन दक्षिण अफ़्रीकी टीम का उत्साह उस समय ख़त्म होता चला गया, जब उसके खिलाड़ी एक के बाद एक सस्ते में पवेलियन लौटते गए.

पहले ज़हीर ख़ान ने बल्लेबाज़ी क्रम की कमर तोड़ी, तो बाद में भज्जी ने अपना जलवा दिखाया. दक्षिण अफ़्रीका की टीम 131 रनों पर ही सिमट गई.

हरभजन सिंह ने सिर्फ़ 10 रन देकर चार विकेट लिए तो ज़हीर ख़ान को तीन विकेट मिले. सबसे ज़्यादा 33 रन हाशिम अमला ने बनाए, तो पीटरसन ने 24 रनों का योगदान दिया.

74 रनों की अहम बढ़त हासिल करने के बाद भारतीय बल्लेबाज़ों ने दूसरी पारी में अच्छी शुरुआत की. वीरेंदर सहवाग और मुरली विजय ने अच्छा खेल दिखाया.

लेकिन एक बार फिर सहवाग का संयम टूटा और उनके आउट होते ही विकेट गिरने का सिलसिला ही शुरू हो गया. भारत ने चार अहम विकेट गँवा दिए हैं.

लेकिन 74 रनों की अहम बढ़त के कारण उसकी कुल बढ़त 166 रनों की है. डरबन टेस्ट का तीसरा दिन काफ़ी अहम साबित हो सकता है. भारत के लिए जहाँ एक-एक क़ीमती होंगे और वहीं दक्षिण अफ़्रीका की टीम जीत का लक्ष्य कम से कम रखना चाहेगी.

संबंधित समाचार