नीदरलैंड्स पर भारी पड़ा इंग्लैंड

रायन टेन दुशकाटे इमेज कॉपीरइट AP
Image caption रायन टेन दुशकाटे ने 110 गेंदों में 119 रन बनाए

विश्व कप क्रिकेट के पहले दौर के एक रोमांचक मैच में इंग्लैंड ने नीदरलैंड्स को छह विकेट से हरा दिया.

नीदरर्लैंड्स की टीम ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था.

मध्यक्रम के बल्लेबाज़ रायन टेन दुशकाटे के बहतरीन 119 रनों की पारी की बदौलत नीदरलैंड्स ने अपने निर्धारित ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 292 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा किया था.

इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने सजग शुरुआत करते हुए इस लक्ष्य को 48.4 ओवरों में चार विकेट खोकर पूरा कर लिया.

सलामी बल्लेबाजों ऐंड्रू स्ट्रॉस और केविन पीटरसन ने इंग्लैण्ड को एक ठोस शुरुआत दी और 17 ओवर पूरे होने के पहले ही 100 रनों का स्कोर बना दिया.

पॉल कोलिंगवुड, बेल और बोपारा ने मध्यक्रम में अच्छी बल्लेबाजी और धैर्य का प्रदर्शन करते हुए इंग्लैंड को 293 के लक्ष्य तक पहुंचा दिया.

इस जीत के साथ ही 2011 के विश्व कप के पहले दौर में एक बड़ा उलटफेर होने से बच गया है.

हालांकि अपने बेहतरीन शतक के लिए नीदरलैंड्स के रायन टेन दुशकाटे को मैन आफ़ द मैच का खिताब दिया गया.

विशाल स्कोर

इससे पहले मैच में रायन टेन दुशकाटे के बेहतरीन शतक की बदौलत नीदरलैंड्स की टीम ने इंग्लैंड के बल्लेबाजों के सामने 293 रनों का विशालकाय स्कोर रखा था.

नागपुर में खेले गए इस मैच में नीदरलैंड्स के कप्तान पीटर बोरेन ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था.

कप्तान के फैसले को सही साबित करते हुए नीदरलैंड्स के सलामी बल्लेबाजों ने अच्छी शुरुआत की.

हालांकि केरवीज़े और बरेसी में से किसी ने भी बहुत लंबी पारी तो नहीं खेली मगर दोनों ने टीम के लिए एक बड़े स्कोर की नींव डाल दी.

उधर इंग्लैंड की ओर से गेंदबाजी की कमान पूरी तरह अपने हाथ में ले रखी थी स्टुअर्ट ब्रोड ने पर उनकी गेंदों का जम कर सामना किया नीदरलैंड्स के कम अनुभवी बल्लेबाजों ने भी.

कूपर और शतकीय पारी खेलने वाले रायन टेन दुशकाटे ने मध्यक्रम में उम्दा खेल दिखाते हुए सधी बल्लेबाजी का प्रदर्शन किया और इंग्लैंड के गेंदबाजों को पूरी तरह लय में नहीं आने दिया.

कूपर 47 रन बनाकर पॉल कॉलिंगवुड की गेंद पर आउट हुए तब लगा की नीदरलैंड्स अब सवा दो सौ के स्कोर से आगे नहीं बढ़ सकेगा.

लेकिन दुशकाटे ने निचले क्रम के बल्लेबाजों ग्रूथ और बोरेन के साथ तेज़ गति से रन बनाये और साथ ही दूसरे छोर को भी थामे रखा.

110 गेंदों में 119 रन बनाने वाले दुशकाटे की बेहतरीन पारी कि बदौलत नीदरलैंड्स ने पूरे 50 ओवर खेलते हुए छह विकेट खोकर 292 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा कर दिया.

इंग्लैंड के गेंदबाजों में क्रिस ब्रोड और स्वान ने दो-दो विकेट लिए, उधर ब्रोड अपने दस ओवरों में 65 रन देकर सबसे महंगे गेंदबाज़ भी साबित हुए.

संबंधित समाचार