मेज़बान टीम के बिना दर्शक नदारद

फ़िरोज़ शाह कोटला इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption फ़िरोज़ शाह कोटला मैदान में दर्शक नदारद रहे

विश्व कप में जिन मैचों में मेज़बान टीम नहीं खेल रही है वहाँ दर्शक अभी तक नदारद हैं.

गिने-चुने दर्शक मैदान में दिखते हैं और ऐसा ही कुछ आलम एक बार फिर दिल्ली में था जहाँ वेस्टइंडीज़ और नीदरलैंड्स का मैच था.

मैच के आधिकारिक प्रायोजकों ने चौकों और छक्कों वाले कार्ड छपवाए हैं मगर इतने लोग ही नहीं पहुँच रहे कि वे उनकी कोई ज़बरदस्त माँग हो.

उसे बाँटने वाले बेचारे ज़बरदस्ती उन्हीं गिने-चुने लोगों को वो कार्ड थमा रहे हैं. मगर कट्टर भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों का ये हाल है कि वे इस मैच में भी वेस्टइंडीज़ या नीदरलैंड्स के बजाए गालों पर भारतीय तिरंगा ही रंगवाकर बैठे हैं.

पोलार्ड और गेल

दिल्ली के क्रिकेट प्रेमी वेस्टइंडीज़ की पारी में क्रिस गेल और केरॉन पोलार्ड की पारी पर ध्यान लगाए हुए थे.

दोनों ही बड़े शॉट लगाने वाले बल्लेबाज़ हैं. गेल अगर 81 रन बना ले जाते तो वह एकदिवसीय मैचों में अपने आठ हज़ार रन पूरे कर लेते.

80 रनों के स्कोर पर पहुँचने के बाद गेल ने रायन टेन दुश्काटे की गेंद को उठाकर मारा मगर बाउंड्री लाइन पर लपक लिए गए.

अब एकदिवसीय मैच में उनका कुल स्कोर 7999 रन है यानी एक रन और बनाने के लिए अब अगले मैच का इंतज़ार.

मगर कोटला के मैदान पर आए लोगों को पोलार्ड ने निराश नहीं किया. उन्होंने 27 गेंदों में जो ताबड़तोड़ 60 रन बनाए उसने वहाँ के लोगों का पैसा वसूल करा दिया.

पाँच चौके और चार छक्के लगाकर उन्होंने लोगों का मनोरंजन किया.

संबंधित समाचार