गुरु गैरी की क्लास

गैरी कर्स्टन इमेज कॉपीरइट Getty

इंग्लैंड के खिलाफ आयरलैंड की धमाकेदार जीत से मेन इन ब्लू काफ़ी सतर्क हो गए हैं.

रविवार को बंगलौर में भारत और आयरलैंड का मैच होने वाला है जिसके सभी टिकट पहले से ही बिक चुके हैं.

लेकिन आयरलैंड के पिछले मैच में किए गए उलटफेर को ध्यान में रखते हुए भारतीय टीम थोड़ी सतर्क भी हो गई है.

गुरूवार को आयरलैंड रूपी ख़तरे को भांपते हुए टीम इंडिया के खिलाड़ियों को ब्लैक बोर्ड पर समझा बुझा कर कोच गैरी कर्स्टन ने काफ़ी ज्ञान दिया.

तोतों के शौक़ीन

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

भारतीय क्रिकेटर यूसुफ़ पठान तोतों को पालने का शौक रखते हैं.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक़ जब यूसुफ़ पठान विश्व कप मैचों में विरोधी गेंदबाजों की धुनाई नहीं कर रहे होते हैं तब वे बाज़ारों में घूम-घूम कर पालतू तोते ख़रीद रहे होते हैं.

तमाम पालतू चिड़ियों को रखने वाले यूसुफ़ पठान ने हाल ही में 35,000 रूपए की कीमत वाले दो स्लेटी रंग वाले तोते ख़रीदे.

पठान का कहना है कि उन्हें चिड़ियों को पालने का बेहद शौक़ है और वे पक्षियों को बहुत चाहते हैं.

वो बात और है कि अब यूसुफ़ के घर में इतने पक्षी हो गए हैं कि उन्हें उनके लिए नई जगह तलाश करनी पड़ रही है.

पर हाँ , पठान साहब को इन पक्षियों को अपने घर में पालतू बनाकर रखने के लिए हर बार वन्य जीव संरक्षण विभाग से इजाज़त भी लेनी पड़ती है!

पाकिस्तान प्रेम

गुरूवार को पाकिस्तान से हुए मैच में तो कनाडा की टीम हार गयी.

लेकिन कनाडा की टीम में पाकिस्तानी मूल के दो खिलाड़ियों खु़र्रम चौहान और रिज़वान चीमा को पाकिस्तान की धरती पर विश्व कप के किसी भी मैच के न आयोजित होने का मलाल ज़रूर है.

खु़र्रम चौहान ने टाइम्स ऑफ इंडिया अखब़ार से बात करते हुए कहा कि अगर उन्हें अपने गृहनगर लाहौर में मैच खेलने का मौक़ा मिलता को क्या बात थी.

जबकि रिज़वान चीमा को लगता है कि कनाडा की क्रिकेट टीम को पाकिस्तान में भरपूर समर्थन मिलता क्योंकि उनकी टीम में एशियाई मूल के खिलाड़ियों की तादाद बहुत है.

गेंदबाज़ मज़दूर नहीं होते

भारत के पूर्व कप्तान कपिल देव इस बात से खफ़ा लग रहे हैं कि मौजूदा विश्व कप में पिचें बल्लेबाजों के लिए ज़्यादा मददगार हैं.

कपिल का कहना है कि क्रिकेट में गेंदबाज़ को मात्र एक मज़दूर समझा जाता है.

इसलिए इस प्रतियोगिता में बल्लेबाज़ों को मदद करने वाली पिचें बनाई गईं हैं.

कपिल देव ने एक कार्यक्रम में कहा कि विश्व कप जीतने के लिए अच्छा गेंदबाजी आक्रमण ज़रूरी है, लेकिन गेंदबाज़ को बल्लेबाज़ जितना महत्व नहीं दिया जाता. कपिल 'पाजी' के तीखे़ प्रहारों का तो आज तक कोई जवाब नहीं!

संबंधित समाचार