शेन वॉर्न ने क्रिकेट को अलविदा कहा

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर शेन वॉर्न ने क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. शुक्रवार को उन्होंने मुंबई में अपना अंतिम आईपीएल मैच खेला.

राजस्थान रॉयल्स के कप्तान के रूप में उन्होंने वानखेड़े स्टेडियम में जीत के साथ पेशेवर क्रिकेट से विदाई ली. उनकी टीम ने मुंबई इंडियन्स को 10 विकेट से पराजित किया. इस मैच में ख़ुद वॉर्न ने भी एक विकेट लिया.

41 वर्षीय वॉर्न ने 2007 में ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था, जब सफल एशेज़ सिरीज़ के दौरान वे 700 टेस्ट विकेट का आंकड़ा पार करने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज़ बने.

एकदिवसीय क्रिकेट तो उन्होंने 2005 में ही छोड़ दिया था.

लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट छोड़ने के बाद भी क्रिकेट की दुनिया में उनका जलवा बना रहा. उन्होंने भारत में आईपीएल में खेलना शुरू किया और 2008 में प्रतियोगिता के पहले ही संस्करण में अपनी टीम राजस्थान रॉयल्स को चैम्पियन बनवा दिया.

हीरा क्रिकेटर

वर्ष 2002 में क्रिकेट का बाइबिल कहे जाने वाले प्रकाशन विज़डन ने वॉर्न का बीसवीं सदी के पाँच महानतम क्रिकेटरों में शुमार किया था.

आईपीएल के मौजूदा संस्करण में वॉर्न की गेंदबाज़ी में धार नहीं दिखी लेकिन उन्होंने कहा है कि क्रिकेट से संन्यास लेने के फ़ैसले में इस बात की कोई भूमिका नहीं है.

अपनी वेबसाइट पर शेन वॉर्न ने लिखा है, "ये एक कठिन फ़ैसला था क्योंकि मैं सचमुच आईपीएल में खेलना मेरे लिए आनंददायक रहा है. इस फ़ैसले का मेरी बॉलिंग से कोई लेनादेना नहीं है. ये मौक़ा दूसरे पड़ाव की ओर बढ़ने का है.

वॉर्न ने कहा है कि उनके जीवन में भी उतार-चढ़ाव रहा है लेकिन वे ख़ुद को भाग्यशाली मानते हैं कि उन्होंने ज़्यादातर अच्छा दौर ही देखा है.

शेन वॉर्न अपनी गेंदबाज़ी के साथ-साथ अन्य कारणों से भी यदाकदा सुर्खियाँ बटोरते रहे हैं. सट्टेबाज़ी और निजी ज़िंदगी के कारण भी वे चर्चा में रहे हैं. अभी इसी हफ़्ते आईपीएल में अनुशासनहीनता के लिए उन पर 50 हज़ार डॉलर का ज़ुर्माना लगाया गया था.

लेकिन ज़्यादातर लोग उन्हें हमेशा सिर्फ़ और सिर्फ़ एक बेहतरीन क्रिकेटर के रूप में ही याद रखेंगे.

उनके प्रशंसकों में पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर और प्रसिद्ध लेग स्पिनर अब्दुल क़ादिर भी शामिल हैं. शेन वार्न के बारे में क़ादिर ने शुक्रवार को कहा, "मैं शेन को एक अच्छे इंसान और एक महान क्रिकेटर के रूप में जानता हूँ. मैं महान शब्द का प्रयोग गिनेचुने खिलाड़ियों के लिए करता हूँ, जैसे- तेंदुलकर और वॉर्न."

क़ादिर ने आगे कहा, "अपने अनुकरणीय कौशल के कारण वॉर्न मेरे लिए एक हीरा हैं."

संबंधित समाचार