चेन्नई फिर सुपरकिंग, आईपीएल ख़िताब जीता

चेन्नई सुपरकिंग्स इमेज कॉपीरइट AFP

बंगलौर रॉयल चैलेंजर्स को 58 रन से हराकर चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम ने लगातार दूसरी बार आईपीएल प्रतियोगिता जीत ली है.

2010 के फ़ाइनल में मुंबई को हराने वाली चेन्नई की टीम ने शनिवार को हुए फ़ाइनल मुक़ाबले में बंगलौर रॉयल चैलेंजर्स को आसानी से मात दी.

पहले बल्लेबाज़ी करते हुए चेन्नई ने अपने निर्धारित 20 ओवरों में पांच विकेट खोकर 205 रनों का स्कोर खड़ा किया.

जिसके जवाब में बंगलौर की टीम अपने बीस ओवरों में आठ विकेट खोकर सिर्फ़ 147 रन ही बना सकी.

फ़ाइनल में अपनी बेहतरीन पारी के लिए चेन्नई टीम के मुरली विजय को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला.

जबकि क्रिस गेल को आईपीएल-4 संस्करण में शानदार प्रदर्शन करने के लिए मैन ऑफ द टूर्नामेंट का इनाम दिया गया.

ख़राब शुरुआत

206 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए रॉयल चैलंजर्स टीम को मैच का सबसे बड़ा झटका अपनी पारी के शुरू होते ही लग गया.

आईपीएल प्रतियोगिता में छह बार मैन ऑफ़ द मैच जीतने वाले क्रिस गेल इस अहम मैच में बिना खाता खोले ही पवेलियन पहुँच गए.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption क्रिस गेल का शून्य पर आउट हो जाना निर्णायक रहा

अश्विन की गेंद पर कप्तान धोनी ने गेल का कैच लपका. बंगलौर के दूसरे सलामी बल्लेबाज़ अगरवाल भी सिर्फ़ पांच गेंदों तक क्रीज़ पर टिक सके और उन्हें भी अश्विन ने 10 के निजी स्कोर पर बोल्ड किया.

सलामी बल्लेबाज़ों के स्थान पर खेलने आए विराट कोहली और एबी डी विलियर्स ने जम कर खेलना शुरू किया और मैच में कुछ जान फूंकी.

लेकिन सुरेश रैना ने अपनी स्पिन गेंद पर विराट कोहली को 35 रनों के निजी स्कोर पर आउट कर मैच का पलड़ा चेन्नई के पक्ष में झुका दिया.

डी विलियर्स और पोमेरबैश के विकेट जकाती ने लिए और उसके बाद बंगलौर की टीम के लिए दो सौ से ज्यादा का लक्ष्य नामुमकिन सा था.

चेन्नई का विशाल स्कोर

इससे पहले चेन्नई टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाज़ी की.

चेन्नई टीम की शुरुआत धमाकेदार रही जिसने फ़ाइनल मुक़ाबले को जीतने की नींव भी रखी.

चेन्नई के सलामी बल्लेबाज़ों मुरली विजय और माइक हसी ने जम कर खेलते हुए पहले विकेट के लिए मात्र 86 गेंदों में 150 से अधिक रन जोड़े.

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption मुरली विजय ने चेन्नई के लिए मैच जिताने वाली पारी खेली.

हालांकि मुरली विजय शतक से चूक गए लेकिन आउट होने के पहले 52 गेंदों का सामना करने के बाद उनका निजी स्कोर 95 रन था.

माइक हसी ने भी तेज़ी से खेलते हुए अपना अर्धशतक पूरा किया और सैयद मोहम्मद की गेंद पर 63 रन बनाकर आउट हुए.

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 13 गेंदों में 22 रनों का योगदान दिया.

लेकिन चेन्नई के 205 रनों के विशालकाय स्कोर में सबसे अहम भूमिका हसी और विजय की रही.

इस विशालकाय स्कोर का पीछा करने बंगलौर रॉयल चैलेंजर्स के बल्लेबाज़ ख़ासे दबाव में उतरे.

वहीँ बंगलौर टीम का कोई भी गेंदबाज़ फ़ाइनल मुक़ाबले के लिहाज़ से अपनी लय में नहीं दिखा.

स्पिनर अरविन्द और क्रिस गेल को दो-दो विकेट मिले जबकि ज़हीर खान और कप्तान डैनियल वेटोरी को बिना किसी विकेट के संतोष करना पड़ा.

बंगलौर रॉयल चैलेंजर्स के क्रिस गेल ने प्रतियोगिता में सबसे अधिक रन बनाने के बाद ओरेंज कैप जीती.

जबकि मुंबई इंडियंस के लसिथ मलिंगा ने सबसे अधिक विकेट लेते हुए पर्पेल कैप अपने नाम की.

संबंधित समाचार