ब्लैटर के फिर फ़ीफ़ा अध्यक्ष बनने की संभावना

सेप ब्लैटर इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सेप ब्लैटर को भी अपनी भूमिका को लेकर जवाब देना पड़ा है

फ़ीफ़ा के अध्यक्ष पद का चुनाव टालने की कोशिशें विफल हो जाने के बाद वर्तमान अध्यक्ष सेप ब्लैटर के चौथी बार फिर से अध्यक्ष चुना जाना तय हो गया है.

इंग्लैंड और स्कॉटलैंड के फ़ुटबॉल एसोसिएशनों ने अध्यक्ष का चुनाव टालने की अपील की थी और कहा था कि भ्रष्टाचार के आरोपों के बीच निष्पक्ष चुनाव संभव नहीं दिखता. लेकिन उनकी अपील को समर्थन नहीं मिला.

क़तर के उम्मीदवार मोहम्मद बिन हम्माम सहित दो अधिकारियों को निलंबित किए जाने के बाद ब्लैटर अध्यक्ष पद के लिए अकेले उम्मीदवार बच गए थे.

इस बीच भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले अधिकारी चक ब्लैज़र 'कॉनकाकैफ़' के महासचिव के रूप में बर्खास्त किए जाने से बच गए हैं.

'कॉनकाकैफ़' उत्तर अमरीका, मध्य अमरीका और कैरेबियन का फ़ुटबॉल संगठन है.

आरोप

इंग्लैंड और स्कॉटलैंड के फ़ुटबॉल संगठनों के चुनाव टालने के प्रस्ताव को समर्थन न मिलने से चुनाव टलने के आसार ख़त्म हो गए हैं.

नियमानुसार फ़ीफ़ा के 208 सदस्य देशों में से 150 देश अगर इस प्रस्ताव का समर्थन करते तो चुनाव टाले भी जा सकते थे.

लेकिन उन्हें वेल्श और आयरलैंड के फ़ुटबॉल संगठनों का भी समर्थन नहीं मिला.

फ़ीफ़ा अध्यक्ष के चुनाव को टालने का मुद्दा ऐसे समय उठा जब वर्ष 2018 और 2022 विश्व कप फ़ुटबॉल की मेज़बानी हासिल करने की प्रक्रिया को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं.

आरोप हैं कि मेज़बानी की दौड़ में वोट हासिल करने के लिए कैरीबियाई फ़ुटबॉल संघ के सदस्यों को वित्तीय प्रलोभन दिए गए.

आरोपों के बाद फ़ीफ़ा की आचार समिति ने चुनाव में उम्मीदवार मोहम्मद बिन हम्माम सहित दो बड़े अधिकारियों को निलंबित कर दिया.

बिन हम्माम के एक आरोप के बाद सेप ब्लैटर के बारे में भी जाँच की गई हालाँकि आचार समिति ने वर्तमान अध्यक्ष को बरी कर दिया.

हालाँकि एशियाई फ़ुटबॉल संघ के प्रमुख मोहम्मद बिन हम्माम और फ़ीफ़ा के उपाध्यक्ष जैक वार्नर ने आरोपों को ग़लत बताया है.

इस बीच फ़ुटबॉल की कुछ बड़ी प्रायोजक कंपनियों – कोका कोला, ऐडिडास और एमिरेट्स एयरलाइंस ने भ्रष्टाचार के आरोपों के कारण खेल की छवि पर असर पड़ने की चिंता प्रकट की है.

संबंधित समाचार