फिर विवादों में मोहम्मद आमिर

मोहम्मद आमिर
Image caption मोहम्मद आमिर पर पाँच साल की पाबंदी है

पाकिस्तान के तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद आमिर एक बार फिर विवादों में हैं. स्पॉट फ़िक्सिंग मामले में पाँच साल की पाबंदी झेल रहे मोहम्मद आमिर ने इंग्लैंड में सरे क्रिकेट लीग के एक मैच में हिस्सा लिया है.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) इस बात की जाँच कर रही है. हालाँकि मोहम्मद आमिर ने अपने को निर्दोष बताते हुए कहा है कि उन्होंने इसे दोस्ताना मैच समझते हुए इसमें हिस्सा लिया और उन्हें ये पता नहीं था कि पाबंदी के कारण वे इसमें नहीं खेल सकते हैं.

स्पॉट फ़िक्सिंग मामले में दोषी ठहराए गए पाकिस्तान के तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद आमिर पर पाँच साल की पाबंदी लगाई गई है.

आईसीसी की जाँच में मोहम्मद आमिर को वर्ष 2010 में लॉर्ड्स टेस्ट के दौरान जान-बूझकर नो बॉल फेंकने का दोषी ठहराया गया था.

अब मोहम्मद आमिर ने चार जून को सरे क्रिकेट लीग के एक मैच में एडिंग्टन 1743 टीम का प्रतिनिधित्व किया.

पाबंदी

इस मामले पर आईसीसी प्रवक्ता ने कहा, "हम ये रिपोर्टें सुनी हैं और हम इसकी जाँच कर रहे हैं. मोहम्मद आमिर पर लगी पाबंदी में साफ़ तौर पर कहा गया है कि पाबंदी हर तरह के क्रिकेट खेलने पर है. साथ ही क्रिकेट से जुड़ी गतिविधि पर भी पाबंदी है."

सरे क्रिकेट लीग की टीम एडिंग्टन 1743 की वेबसाइट पर इसका ज़िक्र है कि मोहम्मद आमिर ने सेंट ल्यूक्स टीम के ख़िलाफ़ मैच में हिस्सा लिया था.

मैच के स्कोरकार्ड के मुताबिक़ मोहम्मद आमिर ने सात ओवर में नौ रन देकर चार विकेट भी लिए थे. उन्होंने बल्लेबाज़ी में पारी की शुरुआत की और 60 रन भी बनाए. एडिंग्टन 1743 ने यह मैच 81 रनों से जीता.

आईसीसी ने स्पॉट फ़िक्सिंग के मामले में पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सलमान बट और तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद आसिफ़ पर भी पाबंदी लगाई है.

संबंधित समाचार