संघर्षपूर्ण मैच में भारत जीता

इमेज कॉपीरइट AP

भारत ने वेस्टइंडीज़ को एंटिगा में खेले गए तीसरे वनडे मैच में तीन विकेट से हरा दिया है. लेकिन ये जीत आसान नहीं थी. वेस्टइंडीज़ के 225 रनों के साधारण से स्कोर को पार पाने के लिए भारतीय टीम को एड़ी चोटी का ज़ोर लगाना पड़ा.

इस जीत के साथ ही भारत ने ये सिरीज़ भी जीत ली है. भारत अब 3-0 से आगे है.

रोहित शर्मा के 86 और हरभजन के 41 रनों की बदौलत ही भारत तीसरे वनडे के अंतिम ओवरों में जीत हासिल कर पाया.

भारत ने टॉस जीतकर वेस्टइंडीज़ से पहले बल्लेबाज़ी करने को कहा और वेस्टइंडीज़ ने 225 रन बनाए जिसमें आंद्रे रसेल के नाबाद 92 रन शामिल थे. इस पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ़ द मैच चुना गया.

रोहित ने दिलाई जीत

इमेज कॉपीरइट AP

जवाब में भारतीय पारी की शुरुआत ख़राब रही. सलामी बल्लेबाज़ के तौर पर पार्थिव पटेल और शिखर धवन मैदान पर उतरे. धवन ने चार रन ही बनाए थे कि आठवें ओवर में सैमी ने उन्हें पवेलियन वापस पहुँचा दिया.

अगली ही गेंद पर सेमी ने विराट कोहली को चलता किया. वे खाता भी नहीं खोल पाए. इसके बाद आए बद्रीनाथ ने 11 रन ही जोड़े थे कि वे रन आउट हो गए. इस बीच केवल पार्थिव पटेल मैदान पर टिके रहे.

उन्होंने कुछ अच्छे शॉट खेले. पर 56 गेंदों में 46 रन बनाकर 19वें ओवर में उनका विकेट भी गिर गया.

भारतीय विकेट गिरने का सिलसिला यहीं ख़त्म नहीं हुआ. कप्तान रैना, जिनसे काफ़ी उम्मीदें थीं, वो क्रीज़ पर ठीक से जमे भी नहीं थे कि पोलार्ड ने उन्हें तीन रन के स्कोर पर आउट कर दिया. अपनी आतिशी पारियों के लिए पहचाने जाने वाले युसूफ़ पठान तो एक ही रन बना पाए.

एक समय भारत मात्र 92 रनों पर छह विकेट गंवा चुका था. ऐसे मुश्किल समय में जब भारत दवाब में था तो रोहित शर्मा और हरभजन सिंह ने मोर्चा संभाला. दोनों ने सूझ-बूझ से खेलते हुए भारतीय पारी को धीरे-धीरे आगे बढ़ाया.

गेंदबाज़ी में पोलार्ड का अहम विकेट लेने वाले भज्जी ने बल्ले से भी अच्छा योगदान दिया. उन्होंने 41 रन बनाए. रोहित के साथ मिलकर वे भारत को 180 के स्कोर तक ले गए. लेकिन 41वें ओवर में इस जोड़ी को तोड़ने का कम किया रसेल ने. हरभजन 41 रन बनाकर आउट हुए.

लेकिन भारत अभी जीत से दूर था. रोहित शर्मा धीरज से खेलते रहे और उनका साथ दिया प्रवीण कुमार ने. दोनों ने मिलकर अंतिम ओवरों में भारत को जीत दिलाई. रोहित शर्मा 91 गेंदों में 86 रन बनाकर नाबाद रहे तो प्रवीण कुमार 15 गेंदों में 25 रन बनाकर नॉट आउट रहे.

रसेल का कमाल

इमेज कॉपीरइट AP

इससे पहले वेस्टइंडीज़ की पारी भी संघर्षपूर्ण रही. वेस्टइंडीज़ को पारी के दूसरे ही ओवर में मुनाफ़ पटेल ने झटका दिया जब कर्क एडवर्ड्स बिना खाता खोले आउट हो गए.

इसके बाद लेंडल सिम्मन्स और रामनरेश सरवन ने मिलकर पारी को आगे बढ़ाने की कोशिश की. सरवन 28 रन बनाकर 15वें ओवर में रन आउट हुए. इसके बाद वेस्टइंडीज़ के तीन विकेट सस्ते में ही निपट गए.

सैम्युल्स और हयात ने एक-एक रन बनाया तो पोलार्ड हरभजन की गेंद पर छह रन बनाकर चलते बने. कप्तान डैरन सैमी भी केवल तीन रनों का ही योगदान कर सके और मुनाफ़ की गेंद का शिकार बने. केवल सलामी बल्लेबाज़ सिम्मन्स कुछ टिके और 45 बनाकर आउट हुए.

एक समय पर वेस्टइंडीज़ ने सात विकेट गंवाकर केवल 96 रन बनाए थे. इस नाज़ुक स्थिति में पारी को संभालने का काम किया आंद्रे रसेल ने और उनका साथ निभाया पहले से क्रीज़ पर मौजूद कार्ल्टन बॉ ने.

कार्ल्टन ने 36 रन बनाए. रसेल आक्रामक अंदाज़ में थे. रसेल के आने से पहले भारतीय गेंदबाज़ बल्लेबाज़ों पर हावी थे लेकिन रसेल ने आकर खेल का रुख़ बदल दिया. उन्होंने आठ चौके और पाँच छक्कों की मदद से 64 गेंदों में 92 रन बनाए और अंत तक आउट नहीं हुए.

इन 92 रनों की बदौलत ही वेस्टइंडीज़ 50 ओवरों में आठ विकेट पर 225 का स्कोर जुटा पाया. अमित मिश्रा और मुनाफ़ पटेल ने तीन-तीन विकेट लिए.

संबंधित समाचार