बिन हम्माम पर आजीवन प्रतिबंध

आरोप लगने के बाद बिन हम्माम अध्यक्ष पद की दौड़ से बाहर हो गए थे

फीफा के अध्यक्ष पद के चुनावों की रेस में रहे मोहम्मद बिन हम्माम को घूस देने की कोशिश करने का दोषी पाया गया है और उन पर जीवन भर के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया है.

फीफा की एथिक्स कमिटी ने दो दिनों की सुनवाई के बाद शनिवार को यह फ़ैसला सुनाया और कहा कि हम्माम जीवन भर फुटबॉल के मामलों से जुड़ नहीं सकेंगे.

बिन हम्माम को पिछले महीने फीफा के अध्यक्ष पद के चुनावों के दौरान वोट खरीदने की कोशिश करने का दोषी पाया गया था.

हालांकि आरोप लगने के बाद हम्माम ने चुनाव से नाम वापस ले लिया था जिसके बाद सेप ब्लैटर बिना किसी विरोध के अध्यक्ष चुन लिए गए थे.

बाद में जांच हुई और हम्माम को अब दोषी पाया गया है. फीफा के 107 साल के इतिहास में बिन हम्माम प्रतिबंधित होने वाले सबसे वरिष्ठ अधिकारी हैं.

एशियन फुटबॉल कनफेडरेशन के पूर्व प्रमुख रहे बिन हम्माम अब ‘राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फुटबॉल के किसी भी कार्यकलाप से शामिल नहीं हो सकेंगे.’

बिन हम्माम के क़ानूनी काउंसिल ने बयान जारी कर कहा है कि वो इसके ख़िलाफ़ जो भी क़ानूनी रास्ता होगा उसे अपनाएंगे.

फीफा की एथिक्स कमिटी ने अपना फैसला कथित स्थितिजन्य सबूतों के आधार पर सुनाया है जो कि बिल्कुल बोगस है और फीफा अधिकारियों के झूठ पर आधारित है

बिन हम्माम की क़ानूनी काउंसिल

बयान में कहा गया है, ‘‘ फीफा की एथिक्स कमिटी ने अपना फैसला कथित स्थितिजन्य सबूतों के आधार पर सुनाया है जो कि बिल्कुल बोगस है और फीफा अधिकारियों के झूठ पर आधारित है.’’

बयान के अनुसार बिन हम्माम ने इस मामले में क़ानून का पालन किया है और सबूतों को मीडिया के सामने पेश नहीं किया है जबकि फीफा ने सबूत लीक किए हैं ताकि लोगों के विचारों को प्रभावित किया जा सके.

बिन हम्माम केक अलावा फीफा के एक और पूर्व उपाध्यक्ष जैक वार्नर को उस समय निलंबित कर दिया गया था जब एक लीक हुई रिपोर्ट में पाया गया था कि इन दोनों ने कैरेबियाई फुटबॉल यूनियन को पैसे देने की कोशिश की थी.

वार्नर ने पिछले महीने फीफा से इस्तीफा दे दिया था जिसके बाद उनके ख़िलाफ़ एथिक्स कमिटी में सुनवाई नहीं हुई.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.