ऐतिहासिक टेस्ट में शर्मनाक हार

इंग्लैंड जीत के बाद इमेज कॉपीरइट Getty

लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर हुए ऐतिहासिक मैच में भारत की अच्छी ख़ासी भद्द पिटी. भारत की मज़बूत बल्लेबाज़ी नहीं चली और गेंदबाज़ों ने भी निराश ही किया.

नतीजा ऐतिहासिक मैच में टेस्ट क्रिकेट की नंबर वन टीम को मिली इंग्लैंड के हाथों बुरी हार.

इंग्लैंड ने भारत को 196 रनों के बड़े अंतर से हराकर चार टेस्ट मैचों की सिरीज़ में 1-0 से बढ़त हासिल कर ली है. भारत को जीत के लिए 458 रनों का लक्ष्य मिला था.

लेकिन भारत की टीम दूसरी पारी में सिर्फ़ 261 रन बनाकर आउट हो गई. भारत की ओर से सुरेश रैना ने सर्वाधिक 78 रन बनाए, जबकि वीवीएस लक्ष्मण ने 56 रनों की पारी खेली.

सचिन तेंदुलकर दूसरी पारी में भी नाकाम रहे और सिर्फ़ 12 रन बनाकर आउट हुए. कप्तान धोनी भी 16 रन ही बना पाए. द्रविड़ ने 36 और गौतम गंभीर ने 22 रनों की पारी खेली.

दूसरी पारी में जेम्स एंडरसन ने पाँच और स्टुअर्ट ब्रॉड ने तीन विकेट लिए.

पारी

इंग्लैंड ने अपनी पहली पारी आठ विकेट पर 474 रन बनाकर समाप्त घोषित की थी, तो दूसरी पारी में उसने छह विकेट पर 269 रन बनाकर समाप्त घोषित की थी. दूसरी ओर भारत की टीम अपनी पहली पारी में 286 रन ही बना पाई.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption पीटरसन ने दोहरा शतक लगाया

लॉर्ड्स टेस्ट टेस्ट क्रिकेट का 2000वाँ टेस्ट था और भारत और इंग्लैंड के बीच 100वाँ टेस्ट. इस मैच को लेकर दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमियों की नज़र थी.

लेकिन भारतीय टीम ने बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी दोनों में निराश किया. टीम की फ़ील्डिंग भी ख़राब रही. ज़हीर ख़ान के टेस्ट के पहले ही दिन घायल हो जाना, टीम के लिए बड़ा झटका रहा, जिससे टीम उबर नहीं पाई.

इस टेस्ट में सचिन तेंदुलकर से भी काफ़ी उम्मीदें थी. लेकिन लॉर्ड्स में उनकी नाकामी का सिलसिला जारी रहा. राहुल द्रविड़ ने ज़रूर पहली पारी में शतक लगाकर टीम को फ़ॉलोऑन से बचाया.

इंग्लैंड के हिसाब से ये मैच केविन पीटरसन के लिए सबसे ज़्यादा यादगार रहा. ख़राब फ़ॉर्म से जूझ रहे पीटरसन ने पहली पारी में दोहरा शतक लगाया.

गेंदबाज़ी में स्टुअर्ट ब्रॉड और जेम्स एंडरसन ने कुल सात-सात विकेट लिए. भारत की ओर से प्रवीण कुमार ने कुल छह विकेट लिए.

संबंधित समाचार