द्रविड़ ने वन डे, टी-20 को कहा अलविदा

राहुल द्रविड़(फ़ाईल फ़ोटो) इमेज कॉपीरइट AP

टीम इंडिया के ‘भरोसेमंद’ खिलाड़ी राहुल द्रविड़ ने एक दिवसीय और टी-20 क्रिकेट से सन्यास लेने की घोषणा कर दी है.

राहुल ने ऐलान किया कि वो इंग्लैंड दौरे के बाद वन डे और टी-20 क्रिकेट को अलविदा कह देंगे.

शनिवार को ही इंग्लैंड में पांच मैचों की वनडे सीरीज़ और एक टी-20 मैच के लिए टीम इंडिया की घोषणा की गई, जिससे ज़रिए दो साल बाद राहुल द्रविड़ की एक दिवसीय मैचों में वापसी हुई.

टीम में राहुल की वापसी से उनके प्रशंसक खुश भी थे और हैरान भी.

खेलते रहेंगे टेस्ट क्रिकेट

हालांकि शनिवार देर रात राहुल द्रविड़ ने वन डे और टी-20 क्रिकेट मैचों से रिटायर होने की घोषणा कर दी. राहुल ने स्पष्ट किया है कि वो टेस्ट क्रिकेट का हिस्सा रहेंगे और फिलहाल टेस्ट क्रिकेट छोड़ने की उनकी कोई मंशा नहीं है.

कौन लेगा बिग थ्री की जगह

मौजूदा टेस्ट श्रृंखला में बेहतरीन फ़ॉर्म में चल रहे एकमात्र बल्लेबाज़ द्रविड़ को भारतीय बल्लेबाज़ी क्रम को स्थिरता देने के लिए टीम में चुना गया है.

इंग्लैंड के ख़िलाफ़ मौजूद शृंखला में उन्होंने लगातार दो टेस्ट मैचों में दो शतक लगाए थे.

उन्होंने पिछली बार साल 2009 में वेस्ट इंडीज़ के ख़िलाफ़ एकदिवसीय मैच खेला था.

राहुल द्रविड़ ने 339 एकदिवसीय मैचों में 10,765 रन बनाए हैं. 1999 के विश्वकप में उन्होंने सबसे ज़्यादा रन बनाए थे.

राहुल द्रविड़ ने टेस्ट मैचों में नया विश्व रिकॉर्ड बनाया, फ़ील्डर के तौर पर वे टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज़्यादा कैच लेने वाले खिलाड़ी बन गए.

2005 में द्रविड़ को भारतीय टीम का कप्तान बनाया गया था लेकिन सितंबर 2007 में उन्होंने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया था.

उन्होंने 25 टेस्ट मैचों में भारत की कप्तानी की जिसमें से भारत ने आठ जीते, छह हारे और 11 ड्रॉ हुए. 79 वनडे मैचों में भी वे भारत के कप्तान रहे.

संबंधित समाचार