ताज गया, लाज बचाने की बारी

भारतीय टीम इमेज कॉपीरइट AFP

इंग्लैंड के ख़िलाफ़ चार टेस्ट मैचों की सिरीज़ और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की टेस्ट रैंकिंग में अपनी शीर्ष स्थान गँवा चुकी भारतीय टीम आज चौथे टेस्ट के लिए मैदान में उतरेगी.

लंदन के ओवल मैदान में भारत और इंग्लैंड के बीच चौथा और आख़िरी टेस्ट आज से शुरू हो रहा है. भारत की टीम 3-0 से पीछे है और सिरीज़ गँवा चुकी है.

दूसरी ओर टेस्ट रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल करने के बाद इंग्लैंड की टीम पूरे उत्साह के साथ मैदान पर उतरेगी. इंग्लैंड के कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस ने कहा है कि सिरीज़ जीतने के बावजूद वे इस टेस्ट मैच को हल्के में नहीं ले रहे.

पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा, "हम उसी उत्साह और जज़्बे के साथ इस टेस्ट में भी उतरेंगे, जैसा पहले के तीन टेस्टों में उतरे थे. हम इस टेस्ट को हल्के में नहीं ले रहे हैं."

इंग्लैंड के कई खिलाड़ी पहले ही ये कह चुके हैं कि वे भारत को 4-0 से हराना चाहते हैं. इंग्लैंड के लिए अच्छी ख़बर ये भी है कि जेम्स एंडरसन ने बुधवार को मैदान पर अभ्यास किया.

निराशा

एंडरसन पूरी तरह फ़िट नहीं हैं और उनके चौथे टेस्ट में खेलने पर संदेह व्यक्त किया जा रहा था, लेकिन मैदान पर अभ्यास के लिए उतरने के बाद इसकी संभावना ज़्यादा है कि वे इस टेस्ट में खेलेंगे.

दूसरी ओर लगातार हार और खिलाड़ियों के ख़राब प्रदर्शन से जूझ रही भारतीय टीम इस टेस्ट सिरीज़ में अपनी लाज बचाने के लिए मैदान पर उतरेगी.

भारतीय टीम खिलाड़ियों के चोटिल होने से भी जूझ रही है. ज़हीर ख़ान, हरभजन सिंह और युवराज सिंह पहले ही सिरीज़ से बाहर हो चुके हैं.

तीसरे टेस्ट के दौरान घायल प्रवीण कुमार की स्थिति के बारे में अभी कोई स्पष्टता नहीं है. अगर प्रवीण इस टेस्ट में नहीं खेल पाए, तो मुनाफ़ पटेल और आरपी सिंह में से किसी एक को मैदान में उतारा जा सकता है.

मौक़ा

भज्जी की ग़ैर मौजूदगी में टीम में शामिल किए गए अमित मिश्रा ने एजबेस्टन टेस्ट में कोई कमाल नहीं किया था, इसलिए टीम प्रबंधन ओवल टेस्ट के लिए प्रज्ञान ओझा के नाम पर विचार कर सकता है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption इंग्लैंड की टीम पूरे उत्साह में है

गेंदबाज़ी के अलावा बल्लेबाज़ी के मोर्चे पर परेशान भारतीय टीम में सुरेश रैना की जगह विराट कोहली को मौक़ा मिल सकता है.

इस पूरी सिरीज़ में भारतीय बल्लेबाज़ी ख़राब रही है और भारतीय टीम एक बार भी 300 का आँकड़ा पार नहीं कर पाई है.

एक संवाददाता सम्मेलन में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भी यह स्वीकार किया. उन्होंने कहा, "इस सिरीज़ में हमारी बल्लेबाज़ी काफ़ी ख़राब रही है और बल्लेबाज़ों ने ऐसा स्कोर अभी तक नहीं दिया है, जिसे गेंदबाज़ डिफ़ेंड कर सकें. लेकिन हम इस टेस्ट मैच में अच्छा प्रदर्शन करने की कोशिश करेंगे."

पिछले टेस्ट में टीम में शामिल किए गए वीरेंदर सहवाग दोनों पारियों में शून्य पर आउट हो गए थे और शीर्ष बल्लेबाज़ों ने अपने प्रदर्शन से निराश ही किया था.

संबंधित समाचार