टेस्ट सिरीज़ में भारत का सफ़ाया

इंग्लैंड इमेज कॉपीरइट AP

ओवल टेस्ट बचाने की भारत की सभी कोशिशें बेकार साबित हुईं. इंग्लैंड ने एक पारी और आठ रनों से जीत हासिल कर चार टेस्ट मैचों की सिरीज़ 4-0 से जीत ली है.

इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए छह विकेट पर 591 रन बनाकर पारी समाप्त घोषित कर दी थी. जवाब में भारत की टीम राहुल द्रविड़ के शतक के बावजूद सिर्फ़ 300 रन ही बना पाई.

भारतीय टीम को फ़ॉलोऑन करना पड़ा और दूसरी पारी में भारत की टीम सिर्फ़ 283 रन बनाकर आउट हो गई. सचिन तेंदुलकर और अमित मिश्रा की बेहतरीन बल्लेबाज़ी के बावजूद भारत की टीम पारी की हार का संकट टाल नहीं पाई.

पाँचवें दिन का खेल शुरू हुआ, उस समय भारत का स्कोर तीन विकेट के नुक़सान पर 129 रन था. पिच पर थे नाइट वॉचमैन अमित मिश्रा और मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर.

अच्छी साझेदारी

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption सचिन तेंदुलकर 91 रन बनाकर आउट हो गए

दोनों संभल कर खेल रहे थे और रन भी बना रहे थे. एक समय ऐसा लग रहा था कि भारत पारी की हार क्या इस टेस्ट की हार भी बचा लेगा.

लेकिन पहले अमित मिश्रा और फिर सचिन तेंदुलकर के आउट होने के साथ ही भारतीय बल्लेबाज़ी बिखर गई. अमित मिश्रा ने बेहतरीन बल्लेबाज़ी की और 84 रन बनाए.

सचिन तेंदुलकर दुर्भाग्यशाली रहे और 91 रन बनाकर आउट हो गए. वे अपना सौवाँ अंतरराष्ट्रीय शतक नहीं लगा पाए. दोनों ने चौथे विकेट के लिए 144 रन जोड़े.

सचिन और अमित मिश्रा के आउट होने के बाद सुरेश रैना बिना खाता खोले तो कप्तान धोनी तीन रन बनाकर आउट हो गए. आरपी सिंह ने शून्य और गंभीर ने तीन रन बनाए. श्रीसंत छह रन बनाकर आख़िर में आउट हुए तो ईशांत सात रन बनाकर नाबाद रहे. दूसरी पारी में ग्रैम स्वान ने छह विकेट लिए.

ये टेस्ट इयन बेल के शानदार दोहरे शतक के साथ-साथ पीटरसन के बेहतरीन 175 रनों के लिए भी याद किया जाएगा. दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 350 रन जोड़े.

इसी टेस्ट में राहुल द्रविड़ ने टेस्ट क्रिकेट में अपना 35वाँ शतक जड़ा और उनकी पारी की बदौलत ही भारत इस टेस्ट सिरीज़ में पहली बार 300 रन बना पाया.

संबंधित समाचार