भद्द पिटवा रहे हैं शोएब

 शुक्रवार, 23 सितंबर, 2011 को 20:48 IST तक के समाचार
शोएब अख़्तर

शोएब अख़्तर ने सचिन पर सवाल उठाए हैं

सच मानिए, लिखते समय बहुत अफ़सोस हो रहा है. लेकिन किसी ने ठीक ही कहा है स्क्रीन पर किसी कलाकार के अभिनय और मैदान पर किसी खिलाड़ी के प्रदर्शन के आधार पर उसके व्यक्तित्व की तस्वीर बनाना बेमानी है.

फिर भी कलाकार हो या खिलाड़ी किसी न किसी रूप में हम जैसे लोगों के प्रियपात्र बन जाते हैं. हम उनके लिए लड़ते हैं, उलझते हैं और कभी-कभी तो उनके समर्थक में मिथ्या तर्क गढ़ते हैं.

अच्छा लगता है किसी के लिए झूठे तर्क गढ़ना, पोटली में से ऐसे मारक रिकॉर्ड निकालना, जो सिर्फ़ और सिर्फ़ उनका गुणगान करते हैं.

पाकिस्तान के चर्चित और विवादित पूर्व क्रिकेटर शोएब अख़्तर ने अपनी आत्मकथा लिखी है.

कितनी ईमानदारी?

आत्मकथा में उन्होंने बहुत ही चीज़ें लिखी हैं. आने वाले दिनों में मीडिया उनका पोस्टमार्टम करेगा और चिर-परिचित अंदाज़ में शोएब ये कहेंगे कि उनकी बातों का ग़लत मतलब निकाला जा रहा है. ये मेरा दावा है और ऐसा ही होगा.

तो सच है क्या. क्या वाकई शोएब को लगता है कि सचिन तेंदुलकर उनसे डरते थे. क्या वाकई राहुल द्रविड़ और सचिन तेंदुलकर मैच विनर्स नहीं हैं.

चलिए मान लेते हैं कि सचिन शोएब की गेंद से डरते थे, लेकिन ये कहना कि सचिन और द्रविड़ मैच विनर्स नहीं, उनकी क्रिकेट की कम समझ दर्शाती है.

या तो वे कम क्रिकेट देखते हैं या फिर आँकड़ों में उनकी दिलचस्पी नहीं. उन्होंने पता नहीं किस भावना से ओत-प्रोत होकर ये बातें लिखी है, ये तो वही जाने.

शोएब अख़्तर ने कई बातें लिखी हैं. ये उनकी ईमानदार कोशिश है या नहीं. इस पर चर्चा करना उचित नहीं.

लेकिन एक चीज़ तो स्पष्ट है कि उन्होंने जो बातें दिल से लिखी हैं, वो उनकी मानसिकता, मैदान पर उनके व्यवहार, पाकिस्तानी क्रिकेट में उनके योगदान, विवाद और उनके व्यक्तित्व का मिला-जुला आकलन है.

कभी किसी पर सवाल उठाना नाजायज़ नहीं होता, लेकिन ऐसी बातें कहना और ऐसी बेतुके तर्क देना शोएब की जटिल छवि को और जटिल करेगा.

शोएब ने क्या किया?

सचिन तेंदुलकर

शोएब के मुताबिक़ सचिन उनकी गेंदबाज़ी से डरते थे

शोएब कहते हैं कि वे गेंद के साथ नियमित छेड़छाड़ करते थे. कितनी ईमानदार स्वीकारोक्ति है? क्या साबित करना चाहते हैं शोएब.

ये सच है और कई मौक़े पर ये साबित भी हुआ है कि गेंद से छेड़छाड़ होती है और क्रिकेट में मैच फ़िक्सिंग भी होती है. लेकिन एक ईमानदार क्रिकेटर के रूप में शोएब ने किया क्या.

उन्होंने ख़ुद स्वीकार किया कि वे गेंद से छेड़छाड़ करते थे. यानी वे उन चीज़ों में भागीदार बने, जो क्रिकेट में वर्जनीय है. अब उसे किताबी रूप देकर शोएब साबित क्या करना चाहते हैं.

क्या वे ये बताना चाहते हैं कि क्रिकेट में क्या होता है? ज़रूर बताइए शोएब, लेकिन ज़रा ये भी बताइए कि आपने इसके ख़िलाफ़ क्या किया. शायद आपके पास इसका जवाब नहीं होगा.

मैंने टीवी पर शोएब को अपनी बात के पक्ष में कुतर्क करते हुए देखा है. परेशान, हताश शोएब अपनी बात के पक्ष में कुछ भी बोलना चाह रहे हैं. उन्हें कुछ समझ में नहीं आ रहा था.

उनकी किताब में बहुत सारी विवादित चीज़ें हैं. मैं ये भी नहीं कहना चाहता कि ये उनकी किताब बेचने की पब्लिसिटी है. अगर है भी तो शोएब को ऐसी पब्लिसिटी से बचना चाहिए.

विश्वसनीयता

राहुल द्रविड़

राहुल द्रविड़ को शोएब मैच विनर्स नहीं मानते

ख़ासकर उस स्थिति में जब शोएब की विश्वसनीयता हर समय सवालों के घेरे में रही है. ये सवाल किसी और ने नहीं, उनके क्रिकेट बोर्ड, उनके साथी खिलाड़ियों ने उठाए हैं.

किसी को बल्ले से मार देना, फ़िटनेस की सही जानकारी नहीं देना, ड्रग्स लेना, बोर्ड पर गंभीर आरोप लगाना और फिर माफ़ी मांगना. शोएब के बारे में राय बनाना किसी के लिए मुश्किल नहीं है.

लेकिन मुझे याद है, इन सब आरोपों के बावजूद एक क्रिकेटर और ख़ासकर बेहतरीन गेंदबाज़ के रूप में शोएब हमेशा मेरे प्रिय रहे. उनकी गेंदबाज़ी ने हमेशा ही मुझे रोमांचित किया है.

उनके बेहतरीन प्रदर्शन को देख-देखकर उनके पक्ष में अच्छी राय गढ़ी थी. इस साल के विश्व कप के दौरान उनका शुरुआती प्रदर्शन अच्छा लगा था, फिर उनका संन्यास लेने की घोषणा ने मुझे दुखी किया था.

मुझे अफ़सोस है कि एक बेहतरीन गेंदबाज़ ने न सिर्फ़ अपने करियर को अपनी उल-जुलूल हरकतों से बर्बाद किया, बल्कि अब अपने किताबी कुतर्कों से क्रिकेट जगत में अपनी भद्द पिटवा रहे हैं.

इससे जुड़ी और सामग्रियाँ

इसी विषय पर और पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.